मानक हिन्दी के शुद्ध प्रयोग 4 : रमेश चंद्र महरोत्रा

Post a Comment

4 Comments

  1. मुझे आपका प्रयाश काफी अच्छा लगा और आपका प्रयास सफल हो ऐसी आशा है |

    ReplyDelete
  2. सही नाम रमेश चंद्र महरोत्रा है, रमेश चंद्र मेहरोत्रा नहीं। मैंने भी शिरीन नागेश लाखे नामक एक कृतघ्न व्यक्ति के लिए "बस्तर के आदिवासियों के नामों का भाषावैज्ञानिक अध्ययन" नामक शोध-प्रबंध लिखते समय यही त्रुटि की थी। उन्होंने "मेहरोत्रा" के "म" अक्षर में लगाई गई मात्रा(े) पर लाल स्याहीवाले पेन से गोल निशान लगा दिया था। पं. रविशंकर विश्वविद्यालय में जमा उस हस्त-लिखित शोध-प्रबंध की एक छायाप्रति के लिए "सूचना के अधिकार अधिनियम" के तहत मैंने आवेदन भेजा है।

    ReplyDelete
  3. सही नाम रमेश चंद्र महरोत्रा है, रमेश चंद्र मेहरोत्रा नहीं। मैंने भी शिरीन नागेश लाखे नामक एक कृतघ्न व्यक्ति के लिए "बस्तर के आदिवासियों के नामों का भाषावैज्ञानिक अध्ययन" नामक शोध-प्रबंध लिखते समय यही त्रुटि की थी। उन्होंने "मेहरोत्रा" के "म" अक्षर में लगाई गई मात्रा(े) पर लाल स्याहीवाले पेन से गोल निशान लगा दिया था। पं. रविशंकर विश्वविद्यालय शुक्ल में जमा उस हस्त-लिखित शोध-प्रबंध की एक छायाप्रति के लिए "सूचना के अधिकार अधिनियम" के तहत मैंने आवेदन भेजा है।

    ReplyDelete
    Replies
    1. त्रुटि सुधार हेतु ध्‍यान दिलानें के लिए धन्‍यवाद भाई. पुस्‍तक के आमुख में भी यह स्‍पष्‍ट हो रहा है.

      Delete