उच्च शिक्षा मंत्री श्री प्रेमप्रकाश पाण्डेय ने किया लोक सुराज अभियान का शुभारंभ

दुर्ग, 26 फरवरी 2017. उच्च शिक्षा, राजस्व एवं आपदा प्रबंधन मंत्री श्री प्रेमप्रकाश पाण्डेय ने आज भिलाई के खुर्सीपार स्थित जोन कार्यालय में जिला स्तरीय लोक सुराज अभियान का शुभारंभ किया। श्री पाण्डेय ने अभियान के अंतर्गत कार्यालय में लगे आवेदन संकलन शिविर का अवलोकन भी किया। मंत्री ने नोडल अफसर सहित ड्यूटी में लगे कर्मचारियों से चर्चा कर मिल रहे समस्याओं की जानकारी ली। सवेरे ग्यारह बजे तक लगभग दर्जनभर लोग अपनी विभिन्न समस्याओं को लेकर आवेदन कर चुके थे।

मंत्री के समक्ष भिलाई नगर की मिनीमाता वार्ड निवासी श्रीमती केजाबाई निर्मलकर ने आवेदन दी। उन्होने कहा कि उसके घर का चिराग और 22 वर्षीय कमाऊ पूत का चार महीने पहले अकाल मौत हो गया है। राज्य सरकार से उन्होंने राष्ट्रीय परिवार सहायता योजना के अंतर्गत सहायता राशि की मांग की। मंत्री श्री पाण्डेय ने उनके आवेदन पंजीबद्ध करके उचित कार्रवाई के निर्देश दिए। भिलाई के वार्ड 32 निवासी श्री राजेन्द्र शर्मा ने अपने मकान के नजदीक स्थित विद्युत खम्बे से लाईन प्रदान करने की मांग रखी। उन्होंने बताया कि फिलहाल उनके घर में बिजली लाईन दूर स्थित खम्बे से उपलब्ध कराई गई है, जो कि पड़ोसी के छत से होकर मेरे मकान तक पहुंचती है। पड़ोसी ने भी अपने घर से होकर लाईन ले जाने पर अनेकों बार आपत्ति उठाई है। श्री शर्मा ने उम्मीद जताई कि इस दफा उनकी समस्या का निदान जरूर होगा। पंजाबी मोहल्ले की श्रीमती बलबीत कौर ने गरीबी रेखा की सूची में नाम जोड़ने के लिए आवेदन दिए हैं। इसी प्रकार बालाजी नगर की सुमित्रा विश्वकर्मा और श्रीमती मरियम तिग्गा ने राशन कार्ड बनाने और इस पर चॉवल उपलब्ध कराने को लेकर आवेदन प्रस्तुत किए हैं। नगर निगम आयुक्त श्री नरेन्द्र दुग्गे भी इस अवसर पर उपस्थित थे।

इधर कलेक्टर श्रीमती आर. शंगीता ने भी अभियान के प्रथम दिवस आज आधे दर्जन से ज्यादा आवेदन संकलन शिविरों का जायजा लिया। उन्होंने ग्राम पंचायत कुथरेल, भानपुरी, कोड़िया, हनोदा सहित दुर्ग नगर निगम के बोरसी जोन और भिलाई नगर निगम के रिसाली जोन कार्यालय का भ्रमण किया। उन्होंने आवेदन लेकर पहुंचे लोगों से उनकी शिकायतों की जानकारी ली और उचित तरीके से इसके पंजीयन के निर्देश दिए। कलेक्टर ने शिविर में की गई व्यवस्था के प्रति संतोष प्रकट किया। उन्होंने लोगों से कहा कि सवेरे 10 बजे से लेकर शाम पांच बजे तक कोई भी आदमी अपनी समस्याएं एवं मार्ग दर्ज करा सकते हैं। जो व्यक्ति आवेदन नहीं लिख पाएगा, उसके लिए लिखने वाले कर्मचारी भी तैनात किए गए हैं। झिझक अथवा गोपनीय शिकायत करने वालों के लिए भी समाधान पेटी की इंतजाम की गई है। उन्होंने जनसामान्य से लिए जा रहे आवेदन का अवलोकन भी किया। मौके पर उपस्थित अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिए। सकारात्मक सहयोग और सौहाद्र पूर्ण वातावरण में आवेदन के निर्देश दिए। आवेदन निर्धारित प्रोफार्मा में ही लेने कहा गया। उन्होंने अधिकारियों को आवेदन लेते समय आवश्यक परीक्षण एवं जांच कर लेने के साथ ही आवेदकों को निश्चित रूप से पावती देने के भी निर्देश दिए। अभियान के प्रति लोगों में खासा उत्साह देखा गया है। लोग अपनी मन की बात आवेदन के रूप में अथवा समाधान पेटी के माध्यम से राज्य सरकार तक पहुंचाने के लिए उत्सुक हैं।

Post a Comment

0 Comments