पुरंगेल फर्जी मुठभेड़ : मृतक मन के लास के दुबारा होही पोस्टमार्टम

बिलासपुर। छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट ह पुरंगेल के जंगल मन म होए मुठभेड़ म बड़का फैसला देवत ऐमा मारे गे मनखे मन के लास के दुबारा पोस्टमार्टम करे के आदेश दे हावय। आप जानत होहू कि सुरक्षा बल मन ह भीमा कड़ती अउ सुखमती हेमला ल माओवादी बताके उंखर एनकाउंटर कर दे रहिन। तेखर बाद मामला म विवाद हो गइस अउ अब हाईकोर्ट ह घलोक मारे गए मनखे मन के लास मन के दुबारा पोस्टमार्टम करे आदेश दे दे हावय।
ए मामला म आम आदमी पार्टी के नेता सोनी सोरी ह मुठभेड़ म मरे मनखे मन के गांव गमपुड़ के दौरा करे रहिस अउ मृतक मन के परिवार वाले मन तीर मिले सहिस। उहां गांव वाले मन ह बताइन कि इन दुनों के दाह संस्कार तभे करबोन जब ए मामला के न्यायिक जांच के संग इंखर दुबारा पोस्टमार्टम होवय। आम आदमी पार्टी के लीगल सेल के वकील अमरनाथ पांडे, रजनी सोरेन अउ किशोर नारायण ह प्रकरण के याचिका तैयार करके भीमा अउ सुखमती के दाई उंगी कड़ती अउ भीम हेमला के तरफ ले हाईकोर्ट म 19 फ़रवरी को अर्जी दायर करे रहिन। बुधवार को होए सुनवाई के बाद जस्टिस गौतम भादुड़ी ह बिरसपतवार को दुबारा पोस्टमार्टम के आदेश जारी करिस।
ए मामला म सुरक्षा बल मन उपर आरोप हवय के उमन भीमा कड़ती अउ ओखर साली सुखमती हेमला के हत्या ये कहत कर दीन के उमन माओवादी आंय। परिवार वाले मन ह जब एकर विरोध करिनस अउ एला फर्जी मुठभेड़ बताइन तो पुलिस ह भीमा के भाई ल घलोक माओवादी घोषित करके जेल म डाल दीस। उहें सुखमती के शरीर म चोट के निशान पाए गए रहिस हे ये कारण ओखर संग बलात्कार होए के घलोक आशंका जतायी गए रहिस हे। एहू आरोप हावय कि जब बामन कड़ती ह अपन भाई अउ ओखर साली ल सुरक्षा बल मन फर्जी मुठभेड़ म मार देहे के शिकायत बड़े स्तर के पुलिस अधिकारी मन ले करे के फैसला लीन तब 31 जनवरी को पुलिस ह ओला घर से उठाके थाना बन्द म बन्द कर दीस।

Post a Comment

0 Comments