नक्सली जन अदालत के लिखित संमन : डेथ वारंट

लीगल राइट्स आब्र्जर्वेटरी के कन्वीनर, जनरल सेक्रेटरी, सेक्रेटरी अऊ प्रवक्ता के नाम सम्मन जारी







जगदलपुर, नक्सली सचिव, दक्षिण सब जोनल ब्यूरो भाकपा (माओवादी) गणेश उइके के हस्ताक्षर ले जारी एक पत्र म चार मनखे ल जनअदालत म मौत के सजा सुनाए गए हे। 8 मई के दिन जारी बयान म लिखे गए हे कि कहूं सम्मन मिले के बाद घलोक येमन हाजिर नइ होहीं त 31 मई रात 12 बजे के बाद ले ये आदेश तामील समझे जाही।
गणेश उईके के हस्ताक्षर ले जारी एक पाना के बयान मां कहे गए हे कि हाल के दिनन मं बस्तर जोन के बुरकापाल मं पूंजीवादी हित के रक्षा अऊ जनता उपर अत्याचार म लगे 25 अतिक्रमणकारी दुश्मन फौजी मन ल मारे के बाद ले पूंजीवादी तत्व मन के हित के रक्षा मं अग्रसर राष्ट्रीय स्‍वयं सेवक संघ (आरएसएस) के एजेंट, मीडिया अऊ सोशल मीडिया म लगातार जनांदोलन ल बदनाम करे म लगे हवंय। आरएसएस के नागपुर माई कार्यालय मं भारी सुरक्षा घेरा मं बइठके लीगल राइट्स आब्जर्वेटरी के नाम ले ये एजेंट मन आम आदिवासी अऊ गरीब मन के खिलाफ होवत अत्याचार मन के खिलाफ अवाज उठइया कामरेड नंदिनी सुंदर, कामरेड कविता कृष्णन अऊ कामरेड बेला भाटिया ल अउ माओवादी जनांदोलन ल बदनाम करे मं लगे हवंय।
अइसन आदिवासी विरोधी जम्‍मो तत्व मन के खिलाफ बस्तर के केंद्रीय जन अदालत मं 9 दिन तक मुकदमा चलाए गए हे जेमां लीगल राइट्स आब्र्जर्वेटरी के कन्वीनर, जनरल सेके्रटरी, सेक्रेटरी अऊ प्रवक्ता संग 4 मनसे ल दोषी पाए गए हे। ये मन ल मौत के सजा सुनाए गए हे। जन अदालत मं ए जम्‍मो झन ल 31 मई 2017 तक प्रत्यक्ष रूप म पेश होए के सम्मन भेजे गए हे। कहूं ये मन ओ बेरा तक पेश नइ होवत हें त ये मन ल सुनाए गए मौत के सजा 31 मई 2017 आधा रात 12 बजे के बाद तुरंते अमल मं लाए जाही। चिट्ठी के नीचे सचिव दक्षिण सब जोनल ब्यूरो भाकपा (माओवादी) गणेश उइके के हस्ताक्षर हे। जारी बयान मं 8 मई 2017 के तारीक डले हे।




style="display:block"
data-ad-client="ca-pub-3208634751415787"
data-ad-slot="4115359353"
data-ad-format="link">

Post a Comment

0 Comments