‘‘प्राचीन अभिलेख पुरालिपि, मुद्राशास्त्र अऊ प्रतिमाशास्त्र’’ विसय उपर 8 मार्च ले तीन दिवसीय कार्यशाला

रायपुर,7 मार्च 2018। राज्य शासन के संचालनालय संस्कृति अउ पुरातत्व कोति ले ‘‘प्राचीन अभिलेख, पुरालिपि, मुद्राशास्त्र अउ प्रतिमाशास्त्र’’ म केन्द्रित तीन दिन के कार्यशाला के आयोजन 8 मार्च ले 10 मार्च तक करे जाही। ये कार्यशाला महंत घासीदास स्मारक संग्रहालय परिसर स्थित संस्कृति विभाग के प्रेक्षागृह म 8 मार्च के दिन बिहनिया 11 बजे ले शुरू होही। कार्यशाला म रोजेच आन-आन विषय मन के विशेषज्ञ मन व्याख्यान प्रस्तुत करहीं। कार्यशाला म ‘‘प्राचीन अभिलेख अउ पुरालिपि, मुद्राशास्त्र अउ प्रतिमाशास्त्र’ के संबंध म विशेष रूप ले छत्तीसगढ़ के जानकारी दे जाही।


style="display:block"
data-ad-client="ca-pub-3208634751415787"
data-ad-slot="6787779569"
data-ad-format="auto">


कार्यशाला के पहिली दिन 8 मार्च के प्राचीन अभिलेख अउ पुरालिपि म डॉ. टी.एस. रविशंकर, पूर्व निदेशक भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (अभिलेख शाखा) लखनऊ के व्याख्यान होही। कार्यशाला के दूसर दिन 9 मार्च के मुद्राशास्त्र म प्रो. लक्ष्मीशंकर निगम, पूर्व अध्यक्ष, प्राचीन भारतीय इतिहास, संस्कृति अउ पुरातत्व, पं. रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यालय रायपुर, प्रोफेसर चंद्रशेखर गुप्त, पूर्व अध्यक्ष, प्राचीन भारतीय इतिहास, संस्कृति अउ पुरातत्व, नागपुर विश्वविद्यालय नागपुर अउ डॉ. जी.एस.ख्वाजा, पूर्व निदेशक (अभिलेख शाखा) भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण नागपुर के व्याख्यान होही। अइसनहे कार्यशाला के आखरी दिन सनिवार 10 मार्च के प्रतिमाशास्त्र म देश के प्रसिद्ध कला समीक्षक प्रोफेसर ए.एल. श्रीवास्तव भिलाई, डॉ. वेदप्रकाश नगायच, पूर्व उप संचालक, मध्यप्रदेश पुरातत्व अउ संग्रहालय भोपाल अऊ प्रोफेसर आर.एन. विश्वकर्मा, पूर्व अध्यक्ष, प्राचीन इतिहास, संस्कृति अउ पुरातत्व विभाग, इंदिरा कला अउ संगीत विश्वविद्यालय खैरागढ़ के व्याख्यान होही। रोज के व्याख्यान के पाछू प्रश्नोत्तरी अउ परिचर्चा होही जेमां विसय के खांटी जानकार मन कोति ले प्रतिभागि मन के जिज्ञासा मन के समाधान करे जाही। ए कार्यशाला म रायपुर स्थित कॉलेज अउ विश्वविद्यालय मन के इतिहास अउ पुरातत्व विसय के अध्यापक, शोधार्थी अऊ विद्यार्थी, जिला मन म कार्यरत जिला पुरातत्व संघ के सदस्य अउ जिला पुरातत्व संग्रहालय मन के अधिकारी-कर्मचारी हिस्सा लीहीं। ए अवसर म भिलाई के मुद्रा संग्राहक श्री आशीष दास कोति ले प्रदर्शनी लगाए जाही। इतिहास अउ पुरातत्व म रूचि रखईया मनखे ले कार्यशाला म सामिल होए के अनुरोध करे गए हे।


style="display:block"
data-ad-client="ca-pub-3208634751415787"
data-ad-slot="6787779569"
data-ad-format="auto">

Post a Comment

0 Comments