हर चेहरा म मुस्कान लाय के अभियान बनिस लोक सुराज

पूरा प्रदेश म लउहे होवत हे किसान, युवा, सियान मन के समस्या मन अऊ जरूरत मन के समाधान


रायपुर, 16 मार्च 2018। कोरबा जिला के जंगलों ले घिरे सुदूर आदिवासी इलाका अजगरबहार के शिविर म केराकछार के श्री आयतन सिंह राठिया ल लोक सुराज शिविर म जब मछली जाल, बर्फ पेटी अऊ तराजू मिलिस त ओखर आंखी खुशी ले छलछला गीस। मछली पालन आयतन के पुश्तैनी काम हे, फेर ओला जादा मछरी पकड़े म दिक्कत होत रहिस अऊ पकड़े के बाद सही कीमत मिलत तक ओ मन ल सहेजके रखे के घलोक समस्या रहिस। नतीजतन मछली मन के निकलतेच उमन बाजार म औने-पौने कीमत म बेच देहे के मजबूरी के चलत श्रम अऊ समय के सेती उंखर आमदनी बहुत कम रहिस। फरवरी महिना म लोक सुराज अभियान के पहिली चरण म ऊंखर गांव म शिविर लगाए गीस, जिहां ओ हर शासन के योजना के तहत मछली जाल, आईस बॉक्स अऊ तराजू-बाट दे बर आवेदन लगाइस। लोक सुराज के तीसर चरण समाधान शिविर म आयतन ल सरकारी योजना के तहत करीब 16 हजार के उपरोक्त सामान अनुदान म निःशुल्क मिल गइस। आयतन के कहना हे कि अब वो हर दिन जादा मछरी पकड़ लेही, पकड़े मछरी मन ल बरफ पेटी म संभालके राख सकही, अच्छा कीमत मिले म ही ओ मन ल बेंचेही। अइसनहे जिला के कोरई ग्राम के कोरवा जनजाति के समार साय ल घलोक बहुत दिन ले मछली जाल के जरूरत रहिस। ओ हर आवेदन लगाइस अऊ ओखर मांग पूरा हो गीस।


style="display:block"
data-ad-client="ca-pub-3208634751415787"
data-ad-slot="6787779569"
data-ad-format="auto">


प्रदेश भर म चलत लोक सुराज अभियान म सरलग छोटे-बड़े समस्या मन के समाधान होवत हे। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के कहना हे कि लोक सुराज ‘सोशल ऑडिट’ के सबले बढ़िया तरीका हे। मुख्यमंत्री ह ये घलोक कहिन हे कि आवेदन मन के निराकरण सिरिफ रिकॉर्ड म नहीं, धरातल म घलोक दिखाई देना चाही। लोक सुराज अभियान आखरी लकीर तक पहुंचे के सबले अच्छा माध्यम हो चुके हे। सरकार के लोक कल्याणकारी योजना मन हर वर्ग के चेहरा म मुस्कान लाय बर तत्पर दिखाई देथे।
दानीटोला वार्ड, धमतरी जिला मुख्यालय के एक हिस्सा हे इहां के कलावती चक्रधारी अपन पति के संग दिहाड़ी मजदूरी करत रहिस। दुनों थक हार के घर आत रहिन। जेवन बनाए बर लकड़ी-छेना के व्यवस्था करंय अउ धुंगिया ले आंखी फोरत जेवन बनांवय। ओमन ल समाधान शिविर म उज्ज्वला योजना ले गैस कनेक्शन मिल गीस। अब उंखर समय बांचही, जेखर उपयोग अपन जीवन ल बेहतर बनाए बर कर सकहीं। धुंगिया ले आंखी लाल नइ होही अऊ उंखर से होवइया बीमारी मन के चिंता घलोक हट जाही। उज्ज्वला योजना ह कबीरधाम जिला के ईश्वरी के घर म घलोक खुशहाली ला देहे हे। ए जिला के सहसपुर-लोहारा ब्लॉक के छोटे गांव दिशाटोला के ईश्वरी ह फरवरी म आवेदन लगाए रहिस, ओला कनेक्शन मिल गीस। इही गांव के चंद्रिका ल घलोक ए योजना के लाभ मिलीस।
आ मन ल बता देवंन के प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना केन्द्र ह प्रदेश के महत्वाकांक्षी योजना हे। ये महिला मन के आजादी, धुंगिया अऊ बीमारी ले मुक्ति अउ पर्यावरण सुरक्षा के अभियान हे। प्रदेशभर म 25 लाख परिवार मन तक ये योजना के लाभ पहुंचाए के लक्ष्य हे। ए योजना ह जंगल मन के अरबों रुपया के पेड़ बचाए हे अऊ आगू घलोक बचाही।
लोक सुराज अभियान के तीसर चरण म बहुत अकन अइसे समस्या मन के घलोक समाधान करे जात हे, जेकर समाधान तकनीकी अऊ व्यावहारिक दिक्कत मन के सेती लउहे नइ हो पात रहिस। कवर्धा जिला के बीसाटोला गांव के गौकरण के समस्या रहिस कि ओ हर घर म बिजली के कनेक्शन लेहे बर अपन घर तक खंभा पहुंचा नइ पाइस। समाधान शिविर म अब ओखर घर तक खंभा अऊ तार खींचे के आदेश निकाल दे गीस। ये प्रदेश सरकार के सौभाग्य योजना हे, जेमां हर मजरा-टोला के सौ फीसदी घर मन तक बिजली पहुंचाए जाना हे। बालोद जिला म जेवरतला एक गांव हे। इहां स्कूल परिसर म उच्चदाब बिजली खंभा लगे हे। एखर से खतरा तो बने रहिथे, लइका मन के खेलकूद के जघा घलोक घिरे हे। एला हटाए बर गांव वाले मन अऊ छात्र मन ह फरवरी के शिविर म आवेदन दे रहिन। अब एला हटाए के कार्रवाई शुरू कर दे गए हे।


style="display:block"
data-ad-client="ca-pub-3208634751415787"
data-ad-slot="6787779569"
data-ad-format="auto">


राजस्व अभिलेख मन म सुधार के प्रक्रिया अड़बड़ लम्बा अऊ जटिल होथे काबर के ये सीधा-सीधा चल सम्पत्ति के हस्तांतरण के अधिकारिक कागद होथे। समाधान शिविर मन म अइसन प्रकरण मन ल घलोक तेजी ले निराकृत करे जात हे। दुर्ग जिला के ग्राम सनौत के भान सिंह के नाम ऋण पुस्तिका म त्रुटि रहिस। ओला बहुत परेशानी रहिस। शिविर म एकर निराकरण कर दे गीस। दुर्ग जिला के धमधा विकासखंड के मुरमुंडा समाधान शिविर म तिहारू राम के एक साल जुन्ना समस्या तुरंतेच हल हो गीस। ढाबा गांव के तिहारू ह एक साल पहिली अपन खेत म नलकूप के खनन करा ले रहिस फेर वहां न खंभा पहुंचिस न बिजली। बिजली कनेक्शन बर खरचा जादा बताइए गीस, जऊन ओखर सामरथ म नइ रहिस। ओ हर फरवरी म लगाए शिविर म अपन आवेदन दीस। अब तिहारू ल सौर सुजला योजना के लाभ मिलही। सौर सुजला योजना सूरज के रौशनी ले चलइया बिजली पम्प हे। एकर लाभ ओ मन ल मिलही, जिनकर खेत मन तक बिजली के कनेक्शन नइ पहुंच पावत हे। जरूरतमंद किसान एखर बर अक्षय ऊर्जा विकास अभिकरण ले सम्पर्क कर सकत हें।
वृद्धावस्था अऊ निर्धनता के थपेड़ा एके संग परथे त जीवन-यापन दुष्कर हो जाथे। महासमुंद जिला के झाल-खम्हरिया के निरासाबाई के जीवन के निराशा समाधान शिविर म दूर करे के कोसिस करे गीस। ओखर बर विधवा पेंशन के स्वीकृति दे गीस। सोरिद ग्राम म लगे ए शिविर म नंदनी केंवट ल घलोक सामाजिक सुरक्षा पेंशन के लाभ देहे के कार्रवाई करे गीस।
भगवती राठिया, सुकांति, किरण, सुलोचना रायगढ़ जिला के कुछ अइसे युवा हवंय, जे मनल जाति, निवास अऊ आमदनी प्रमाण पत्र के जरूरत रहिस। जीवरी ग्राम के समाधान शिविर म एके दिन म ए मन ल ये सबो कागद दे देहे गीस। ए युवा मन ह कहिन कि आगू के पढ़ाई अऊ नौकरी बर ये कागद बहुत जरूरी रहिस। लोक सुराज अभियान ले उंखर परेशानी हल हो गीस। कोंडागांव जिला के विकासखण्ड फरसगांव के भोंगापाल एक ऐतिहासिक गांव हे। निःशक्त चैतूराम ह इहां के शिविर म ट्राइसाइकिल बर आवेदन करे रहिस, जऊन ओला समाधान शिविर म हाथों-हाथ दे देहे गीस। ओखर कहना हे कि अब ओला अपन जीवन-यापन बर कोनो सहारा के जरूरत नइ परही। अइसनहे प्रशासन ह लोकोन्मुखी सरकार के मंशा के जइसे योजना मन के क्रियान्वयन करत रहय, एखर लक्ष्य ल लोक सुराज अभियान के माध्यम ले सफलता ले पूरा करे जात हे।


style="display:block"
data-ad-client="ca-pub-3208634751415787"
data-ad-slot="6787779569"
data-ad-format="auto">

Post a Comment

0 Comments