मेरे पिया गए रंगून : शमशाद बेगम

गायिका शमशाद बेगम का गुरु और कोई न होकर एक ग्रामोफोन था। उसके भोंपू में से निकलती आवाज से चकित शमशाद ने गुनगुनाते हुए गाने का रियाज किया। स्कूल में उससे प्रार्थना गवाई जाती थी। उसकी सुरीली आवाज को मास्टर गुलाम हैदर (Mastar Gulam Haidar) ने सुना जैनाफीन रिकॉर्डिंग कंपनी में ले जाकर तेरह साल की कच्ची उम्र में पक्का पंजाबी गाना गवा दिया- हथें जोडा पंखियाँ दा.... यह गाना बेहद लोकप्रिय हुआ। कंपनी ने 365 दिनों में शमशाद से 200 गीत गवा लिए।
उस समय एक गीत का पारिश्रमिक साढे बारह रुपए एक रुपए में ढाई मन गेहूँ या सवा सेर घी मिलता था। मास्टर गुलाम हैदर ने सारे गाने रिकॉर्ड कराए थे। बाद में संगीतकार श्यामसुंदर आए। इस समय तक शमशाद को फिल्मों के पार्श्व संगीत का ज्ञान नहीं था, क्योंकि उसने बहुत कम फिल्में देखी थीं। निर्माता पंचोली ने जैनाफोन से सुरीली गायिका माँगी तो बदले में शमशाद दे दी गई। पहली बार फिल्म 'यमला जट्ट' Yamala Jatt में शमशाद ने आठ गानों का पार्श्व गायन किया -कणंकाँ दी सला पकियाँ। इसके बाद फिल्म 'चौधरी' के गाने भी हिट हुए। पंजाबी से हिन्दी फिल्मों में आकर शमशाद ने यहाँ भी धूम मचाई। फिल्मकार मेहबूब ने उन्हें बंबई बुलाकर तकदीर (1942) के लिए गवाया। इसके नायक मोतीलाल तथा नायिका नरगिस थीं। पन्ना फिल्म का गीत-संगीत इतना लोकप्रिय हुआ कि वह बावन हफ्ते चली। फिल्म मन की जीत में शायर जोश मलीहाबादी ने गीत लिखा था- मेरे जोबना का देखो उभार- शमशाद ने अश्लील बोल गाने से मना कर दिया था। काफी बहस के बाद गा तो दिया, मगर दूसरी बार जोश के सामने नहीं पड़ी।

इसके बाद बंबई में स्थाई रूप से बस कर सी. रामचंद्र के संगीत निर्देशन में धूम धड़ाकेदार गाने-मेरी जान संडे के संडे तथा मेरे पिया गए रंगून वहाँ से किया टेलीफून गाए। गोपालसिंह नेपाली का- फिल्म नजराना में लिखा गीत गाया- एक रात को पकडे़ गए दोनों साथ में जकडे़ गए दोनों। सचिन दा के संगीत में सँवरी 16 गानों वाली फिल्म शबनम के सभी गाने हिट थे। शमशाद ने यह गाना- दुनिया रूप की चोर- पाँच भाषाओं में गाया था। शमशाद ने गुलाम हैदर, चित्रगुप्त, ओ.पी. नैय्यर, नौशाद, खेमचंद प्रकाश, मदन मोहन आदि तमाम नामी संगीतकारों की धुनों पर गाया है। प्रमुख गीत: मोहन की मुरलिया बाजे रे (मेला), कभी आर कभी पार (आरपार), नहीं फरियाद करते (सावंन आया रे), न आँखों में आँसू (आग )।
सरगम के सफर, नई दुनिया से साभार

Post a Comment

0 Comments