गौठान बना महिला स्व-सहायता समूह की आय का जरिया : तार-फेंसिंग पोल बनाकर कमा रहीं अतिरिक्त आमदनी

छत्तीसगढ़ शासन की महत्वाकांक्षी योजना नरवा, गरूवा, घुरूवा और बाड़ी कार्यक्रम अंतर्गत जिले के नरहरपुर विकासखण्ड (Naraharpur Block) के ग्राम मानिकपुर (Manikpur) में 20 लाख रूपये से लगभग 10 एकड़ क्षेत्र में आदर्श गौठान (Aadarsh Gothan) का निर्माण किया गया है। आदर्श गौठान के बनने से मानिकपुर के महिला स्व-सहायता समूह के सदस्यों को स्वरोजगार उपलब्ध हो रहा है। समूह के सदस्यों द्वारा गोबर से जैविक खाद का निर्माण किया जा रहा है, इसके लिए वर्मीबेड़ बनाये गये हैं। गौमूत्र से कीटनाशक घोल बनाये जा रहे है। अतिरिक्त आमदनी के लिए तार फेंसिंग पोल का निर्माण किया जा रहा है। गौठान में स्थित तालाब में मछली पालन भी किया जा रहा है। इसके अलावा मुर्गी पालन की योजना भी बनाई जा रही है।

गौठान में पानी की समुचित व्यवस्था के लिए कोटना एवं पानी टंकी निर्माण का निर्माण किया गया है, जिसमें पशुओं को पानी पिलाया जाता है तथा नियमित साफ-सफाई भी किया जाता है। पानी की  व्यवस्था के लिए गौठान में सोलरपंप स्थापित किया गया है, इसके अलावा तालाब का भी निर्माण किया गया है,  जिसमें समूह के सदस्यों ने मछली पालन का कार्य किया जा रहा हैं। हरेली तिहार के दिन जिले के प्रभारी मंत्री श्री गुरू रूद्र कुमार की उपस्थित में तालाब में मछली बीज का संचयन किया गया, जिसका देख-भाल किया जा रहा है,  मछली अब धीरे-धीरे बढ़ने लगे हैं। स्वसहायता समूह के सदस्यों द्वारा तार फेंसिंग पोल का निर्माण कर अतिरिक्त आमदनी प्राप्त की जा रही है। 

पशुओं के लिए गौठान के पास ही डेढ़ एकड़ में नेपियर घास लगाई गई है, जिसे काटकर पशुओं को खिलाया जा रहा है। मानिकपुर के सरपंच श्री अजीत टेकाम ने बताया कि गौठान के बनाये जाने से गांव में घूमने वाले लावारिस पशुओं से फसलों को नुकसान नहीं पहुंचेगा। जैविक खाद के उपयोग से फसल की अच्छी पैदावार होगी। सरपंच ने बताया कि स्व-सहायता समूह केे सदस्यों के साथ-साथ बेरोजगारों को भी चरवाहा का काम मिल गया है, वे चरवाहा पशुओं का देख-रेख करते हैं। उन्होंने छत्तीसगढ़ सरकार की इस महत्वकांक्षी सुराजी योजना की प्रशंसा करते हुए कहा कि इसके प्रारंभ होने सेे पशुओं के संरक्षण के साथ ही रोजगार के अवसर भी उपलब्ध होंगे।

Post a Comment

0 Comments