पहली बार राजस्थान में इस पर बनी निति, जनता से मांगे सुझाव

जयपुर। राजस्थान की अशोक गहलोत सरकार के निर्देश पर प्रदेश में पहली बार आयुर्वेद एवं भारतीय चिकित्सा विभाग द्वारा आयुर्वेद, यूनानी, होम्योपैथिक तथा योग एवं प्राकृतिक चिकित्सा को अधिक गुणात्मक बनाकर इसके नियोजित एवं चरणबद्ध विकास हेतु राज्य आयुष नीति तैयार की गई। अब इस नीति पर आम जनता से सुझाव मांगे गए हैं।

मानवता शर्मसार: शराब के नशे में दो लोगों ने महिला के साथ कर ऐसा घिनौना काम कि...

निदेशक आयुर्वेद विभाग से इस प्रकार की जानकारी मिली है। राजस्थान सरकार के निर्देशानुसार राज्य आयुष नीति 2019 के प्रस्तावित प्रारूप में आमजन एवं विशेषज्ञों से राय/ टिप्पणी प्राप्त कर समाविष्ट कर प्रारूप को अद्यतन किया जाना है।

इस वर्ग की महिलाएं जयपुर में बनेंगी महापौर, दिग्गजों के अरमानों पर फिरा पानी

निदेशक आयुर्वेद विभाग के अनुसार आयुष नीति 2019 का प्रारूप विभाग की वेबसाइट पर प्रकाशनार्थ अपलोड किया जा चुका है। इस पर जनता अपने सुझाव प्रस्तुत कर सकते है।



Post a Comment

0 Comments