ओमान जूनियर व कैडेट ओपन टेबल टेनिस चैंपियनशिप में भारत ने जीते एक स्वर्ण सहित सात पदक

भारत के युवा टेबल टेनिस खिलाड़ियों ने विश्व स्तर पर शानदार प्रदर्शन जारी रखते हुए मस्कट में आयोजित ओमान जूनियर व कैडेट ओपन टूर्नामेंट में एक स्वर्ण और एक रजत सहित कुल सात पदक अपने नाम किए. लड़कियों के कैडट वर्ग में भारत की बी टीम ने इस आईटीटीएफ प्रीमियम जूनियर सर्किट इवेंट में उम्दा प्रदर्शन किया. इस टीम का सामना चीनी ताइपे-एक टीम से हुआ, जिसे हराकर उसने स्वर्ण जीता. काव्याश्री भास्कर के नेतृत्व में खेल रही भारतीय टीम में निसिश्मा सरकार भी शामिल थीं. काव्या ने अपने दोनों सिंगल्स मुकाबले जीते, जिसमें अहम चौथा मैच भी शामिल है. काव्या की जीत के साथ भारत ने 3-1 की बढ़त हासिल कर ली. चीनी ताइपे टीम में पू सुयान चेंग और युआन तिंग लियान शामिल थीं.

तनीशा एस कोटेचा और सुहाना सैनी की इंडिया ए टीम को सेमीफाइनल में इसी वर्ग में इंडिया बी टीम से हार मिली. लड़कों के कैडट वर्ग में दोनों भारतीय टीमों को सेमीफाइनल में हार मिली. इन दोनों टीमों को कांस्य पदक मिला. इंडिया ए टीम में आदर्श ओम चैत्री और दिव्यांश श्रीवास्तव शामिल हैं. इस टीम को चीनी ताइपे एक टीम के हाथों 0-3 से हार मिली जबकि बी टीम में राज प्रेयेष सुरेश और सार्थ मिश्रा को भी इसी अंतर से हार मिली.

लड़कियों क जूनियर वर्ग के मुकाबले राउंड रोबिन आधार पर खेले गए और इसमें इंडिया-ए टीम में शामिल स्वस्तिका घोष और अनार्ग्या मंजूनाथ ने सात अंक जुटाते हुए दूसरा स्थान हासिल किया. इस तरह इन दोनों को रजत पदक मिला. इस टीम ने चार में से तीन मैच जीते. इस टीम को हालांकि फाइनल में चीनी ताइपे टीम से हार मिली. चीनी ताइपे टीम ने यह मैच 3-2 से जीता. इस तरह भारतीय टीम स्वर्ण से दूर रह गई. इसी तरह इंडिया बी टीम, जिसमें मुनमुन कुंडू और अनुषा कुटुम्बाले शामिल हैं, ने चार में से दो मैच जीते और छह अंकों के साथ कांस्य जीतने में सफल रही. श्रेयांस गोयल और एच जेहो की इंडिया बी टीम को राउंड ऑफ चार मुकाबले में ईरान के हाथों 1-3 से हार मिली और इस तरह यह टीम कांस्य जीतने में सफल रही. (खेलों पर सटीक विश्लेशण के लिए पढ़ें और फॉलो करें).



Post a Comment

0 Comments