देश भर में चल रही है गुरु नानक देव की 550वीं जयंती की तैयारियां

गुरु नानक देव के 550वें प्रकाश पर्व पर देशभर में विशेष कार्यक्रमों के आयोजन के द्वारा इस अवसर को ख़ास बनाने के प्रयास किए जा रहे हैं। इसी क्रम में नेशनल बुक ट्रस्ट की गुरु नानक देव जी पर तीन प्रतिष्ठित पुस्तकों का विमोचन किया गया। प्रकाश पर्व के मौके पर ऐतिहासिक कस्बे सुलतानपुर लोधी में भी कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे हैं। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 9 नवंबर को डेरा बाबा नानक सीमा पर गलियारे का उद्घाटन करेंगे।

वहीं इस मौके पर भारत पाकिस्तान के बीच ऐतिहासिक करतारपुर गलियारे के ज़रिए करतारपुर दरबार साहिब की यात्रा पर विदेश मंत्रालय ने साफ किया है कि इसे लेकर वही नियम लागू होंगे जिन पर पाकिस्तान के साथ समझौते पर दस्तखत हुए थे। प्रकाश पर्व के मौके पर ऐतिहासिक कस्बे सुलतानपुर लोधी में भी कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे हैं। सरकार की ओर से इस पावन नगरी के रेलवे स्टेशन को सुंदर व ऐतिहासिक बनाने में कोई कसर नहीं छोड़ी जा रही है। गुरुवार को स्टेशन पर केंद्रीय मंत्रियों ने नयी सुविधाओं की शुरुआत की तो साथ ही नया प्लेटफार्म और नयी ट्रेन भी शुरु की गयी है । 

सिख धर्म के संस्थापक गुरु नानक देव कपूरथला जिले के सुल्तानपुर लोधी में  करीब 15 वर्ष से अधिक समय तक रहे थे और यहीं उन्हें ज्ञान की प्राप्ति हुई थी। शनिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी यहां पहुंच रहे हैं। 550 वें प्रकाशोत्सव के मौके पर ही भारत और पाकिस्तान के बीच  ऐतिहासिक करतारपुर गलियारा भी शुरु हो रहा है। इस गलियारे के जरिए भारत के सिख श्रद्धालु पाकिस्तान में स्थित पवित्र करतारपुर दरबार साहिब तक जा पाएंगे।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 9 नवंबर को डेरा बाबा नानक सीमा पर गलियारे का उद्घाटन करेंगे तो साथ ही वो  550 सदस्यों वाले पहले जत्थे को रवाना भी करेंगे। इस बीच विदेश मंत्रालय ने कहा है कि करतारपुर की यात्रा के लिए वही नियम लागू होंगे जिन पर पाकिस्तान के साथ समझौते पर दस्तखत हुए थे । विदेश मंत्रालय का कहना है कि पाकिस्तान की तरफ से भ्रम पैदा किया जा रहा है। 

भारत ने उम्मीद जाहिर की है कि पहले जत्थे के श्रद्धालुओं की जो लिस्ट भेजी है उसे पाकिस्तान मंजूरी देगा। पाक को यात्रा के चार दिन पहले ही ये  मंजूरी देनी थी जो उसने अब तक नहीं दी है। गौरतलब है कि गुरु नानक देव की 550वीं जयंती 12 नवंबर को है और इससे पहले नौ नवंबर को करतारपुर गरियारे का उद्घाटन किया जाएगा। यह गलियारा भारत के पंजाब में डेरा बाबा नानक गुरुद्वारे को करतापुर के दरबार साहिब से जोड़ेगा जो अंतरराष्ट्रीय सीमा से महज चार किलोमीटर दूर है। गुरुद्वारा दरबार साहिब में सिख धर्म के संस्थापक गुरु नानक देव ने अपने जीवन के अंतिम 18 वर्ष बिताए थे।



Post a Comment

0 Comments