उपचुनाव में ममता बनर्जी ने दिखाया दम, भाजपा चारों खाने चित

भाजपा के दिन अच्छे नहीं चल रहे हैं. महाराष्ट्र में सत्ता गंवाने के बाद उसे बंगाल में ममता बनर्जी ने भी मात दे दी है. विधानसभा की तीन सीटों के लिए हुए उपचुनाव में तृणमूल कांग्रेस ने शानदार प्रदर्शन किया और तीनों सीट पर कब्जा जमा लिया है. उसने एक सीट भाजपा से छीनी है. भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष के सांसद बनने की वजह से खाली हुई सीट पर तृणमूल कांग्रेस ने शानदार जीत दर्ज कर भाजपा की हवा निकाल दी है. तृणमूल कांग्रेस ने कलियागंज और खड़गपुर सदर सीट पर लंबे समय बाद जीत दर्ज की है. जीत के बाद तृणमूल कांग्रेस समर्थकों में उत्साह देखने को मिल रहा है तो भाजपा समर्थकों में मायूसी देखनें को मिल रही है. लोकसभा चुनाव के नतीजों से उत्साहित भाजपा के लिए बंगाल मे इसे बड़ा झटका माना जा रहा है.

लोकसभा चुनाव में तो भाजपा ने ममता के किले में सेंध लगा दी थी लेकिन लगता है कि ममता बनर्जी ने उस हार से सबक लेकर अपने गढ़ को फिर मजबूत कर लिया है. चुनाव नतीजों के बाद बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि भाजपा अपने अहंकार का नतीजा भुगत रही है. उन्होंने कहा कि अहंकार की राजनीति नहीं चलेगी. लोगों ने भाजपा को ठुकरा दिया. तृणमूल कांग्रेस की खड़गपुर सदर और कलियागंज सीट पर जीत को बड़ी माना जा रहा है. दोनों जगहों पर पहली बार तृणमूल ने जीत दर्ज की है. कलियागंज सीट पर तृणमूल कांग्रेस के तपन देब ने जीत हासिल की है. 

भाजपा की हार पर पार्टी के वरिष्ठ नेता मुकुल रॉय ने कहा कि हमारी चुनावी रणनीति तीन सीटों पर गलत रही हम हार स्वीकार करते हैं, हम हार की समीक्षा करेंगे. बंगाल में अभी एनआरसी नहीं है मेरी नजर में एनआरसी कोई मुद्दा नहीं है. भाजपा प्रदेश अध्यक्ष की सीट पार्टी हार गई है चुनाव में ऐसा होता है. वहीं उपचुनाव में हार पर प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष ने कहा कि उपचुनाव में सत्ता में रहने वाली पार्टी ही जीतती है, इसमें नया कुछ भी नहीं है. सत्ताधारी दल को पुलिस और प्रशासन का फायदा मिलता है. खड़गपुर सदर सीट की हार का हम मूल्यांकन कर रहे है. लोकसभा चुनाव और विधानसभा उपचुनाव में काफी अंतर होता है, लोग विधानसभा उपचुनाव को गंभीरता से नहीं लेते हैं. उनका मानना है कि 2021 में होने वाले विधानसभा चुनाव का नतीजी अलग होगा और हम सत्ता में आएंगे क्योंकि 2021 मे लोग इस नतीजे को भूल जाएंगे, मुद्दा और हालत बदल जाएंगे.

उपचुनाव की जीत पर तृणमूल कांग्रेस की महुआ मोइत्रा ने कहा कि हम लोगों को धन्यवाद देते हैं, मुख्यमंत्री ने काम की है, इतना काम किया है जनता ने उसके आधार पर वोट दिया है, देश के जो हालात हैं लोग समझ गए हैं. साथ ही महुआ मोइत्रा ने दिलीप घोष के बयान पर पलटवार करते हुए कहा कि सभी लोग उनके साथ थे, पुलिस उनके कब्जे में थी, ऊपर से हाथी जा रहा है जवाब देना मेरा काम नहीं हैं, हम आगे भी जीतेंगे 56 इंच को लोग भूल जाएंगे. कांग्रेस के सांसद पी भट्टाचार्य ने कहा कि तृणमूल कांग्रेस को जीत एनआरसी के कारण हुई है, सभी रिफ्यूजी का वोट तृणमूल कांग्रेस को मिला है. भाजपा एनआरसी के कारण चुनाव में हारी है. बंगाल में विधानसभा की तीन सीटों पर 25 नवंबर को उपचुनाव हुए थे. तृणमूल ने कलियागंज सीट कांग्रेस से छीनी है. बंगाल में 2021 में विधानसभा के चुनाव होने वाले हैं. (राजनीतिक-सामाजिक मुद्दों पर सटीक विश्लेशण के लिए पढ़ें और फॉलो करें).



Post a Comment

0 Comments