प्रकाश जावडेकर: फेक न्यूज़ सबसे बड़ा संकट

आज राष्ट्रीय प्रेस दिवस है। 16 नवम्बर 1966 से ही भारतीय प्रेस परिषद ने विधिवत कार्य करना शुरू किया था। तभी से प्रतिवर्ष 16 नवम्बर को राष्ट्रीय प्रेस दिवस के रूप में मनाया जाता है। राष्ट्रीय प्रेस दिवस मनाने का मुख्य उद्देश्य देश में आम लोगों को प्रेस के बारे में जागरूक करना और उनको प्रेस के नजदीक लाना है।

पत्रकारिता का क्षेत्र आज व्यापक हो गया है। पत्रकारिता जन-जन तक सूचना पहुंचाने का मुख्य साधन बन चुका है। राजधानी दिल्ली में आज उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू और सूचना प्रसारण मंत्री प्रकाश जावडेकर ने 2019 के लिए पत्रकारिता में उत्कृष्ट योगदान के लिए राष्ट्रीय पुरस्कार प्रदान किया। 

सूचना प्रसारण मंत्री प्रकाश जावडेकर ने मीडियाकर्मियों को प्रेस दिवस की बधाई दी। जावडेकर ने कहा, राष्ट्रीयता प्रेस दिवस के अवसर पर मीडिया के लोगो को शुभकामनाएँ। प्रेस की स्वतंत्रता एक जीवंत लोकतंत्र का आधार है। यह आपातकाल के दौरान कांग्रेस द्वारा कुचल दिया गया था। हम प्रेस की पूर्ण स्वतंत्रता को सुनिश्चित कर रहे हैं। मीडिया आलोचना कर सकता है लेकिन 'फर्जी समाचार' पर चौकसी भी करना चाहिए और विघटनकारी और गलत सूचना से बचना चाहिए। प्रत्येक स्वतंत्रता के लिए नैतिकता जरूरी है।

प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि फेक न्‍यूज के प्रति पूरी तरह सजग रहना चाहिए उन्‍होंने कहा कि फेक न्यूज़ का संकट पेड न्यूज़ से ज्यादा है।



Post a Comment

0 Comments