महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लागू होते ही कांग्रेस ने दिया ये दमदार बयान, कहा- न केवल...

गूगल

महाराष्ट्र में हाल ही में देवेंद्र फडणवीस के इस्तीफा देने और भारतीय जनता पार्टी के सरकार न बनाने का ऐलान करने के बाद राज्यपाल ने पहले उद्धव ठाकरे की पार्टी शिवसेना और फिर शरद पवार की पार्टी एनसीपी को सरकार बनाने के लिए न्योता भेजा। लेकिन तय समय में दोनों ही दल समर्थन हासिल करने में नाकाम रहे। जिसके चलते महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लागू कर दिया गया।

गूगल

अब महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लागू होते ही कांग्रेस ने दमदार बयान दिया है। कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने दमदार बयान देते हुए कहा कि,"महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगाना न केवल प्रजातंत्र से क्रूर मज़ाक़ है, बल्कि सविंधान की परिपाटी को रौंदने वाला कुकृत्य है। बोम्मई केस के मुताबिक़ अगर किसी पार्टी को बहुमत नही मिला था तो गवर्नर के लिए ज़रूरी था कि संख्याबल के चलते चुनाव से पहले हुए सबसे बड़े प्री पोल गठबंधन भाजपा-शिवसेना को मौक़ा दें।"

गूगल

उन्होंने आगे कहा कि,"इसके बाद चुनाव से पहले हुए दूसरे सबसे बड़े प्री पोल गठबंधन कांग्रेस-एनसीपी को मौक़ा देना चाहिए। गवर्नर ने हर पार्टी को अलग-अलग बहुमत साबित करने का मौक़ा दिया तो फिर कांग्रेस को क्यों नही? साथ ही बहुमत साबित करने की अलग-अलग समय सीमा क्यों?" उन्होंने कहा कि भाजपा को 48 घंटे का समय दिया गया। शिव सेना को बहुमत साबित करने के लिए 24 घंटे का समय दिया गया। एनसीपी को 24 घंटे भी नही दिया गया और कांग्रेस को 1 मिनट भी समय नहीं दिया गया।

गूगल

(सोर्स- Randeep Singh Surjewala official twitter account)



Post a Comment

0 Comments