वाट्सएप जासूसी मामलाः तो प्रियंका गांधी का फोन भी हुआ था हैक

वाट्सएप जासूसी मामला अब तूल पकड़ रहा है. कांग्रेस ने केंद्र की भाजपा सरकार पर हल्ला बोलते हुए दावा किया कि सरकार नेताओं, पत्रकारों व सामाजिक कार्यकर्ताओं की जासूसी इजराइल की कंपनी की मदद से करा रही थी. कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाली ने बाकायदा प्रेस कांफ्रेंस कर केंद्र सरकार पर जासूसी का आरोप लगाया. इतना ही नहीं कांग्रेस ने तो यहां तक आरोप लगाया कि प्रियंका गांधी का वाट्सएप भी हैक किया गया था, यानी वाट्सएप स्नूपिंग को लेकर अब राजनीतिक विवाद तेज हो गया है. कांग्रेस ने दावा किया कि प्रियंका गांधी सहित तीन विपक्षी नेताओं के फोन सरकार ने हैक किए थे.

बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने भी कुछ ऐसा ही दावा किया. कांग्रेस ने कहा कि दूसरे नेता प्रफुल्ल पटेल हैं, जिनके फोन में सेंध लगाई गई. प्रफुल्ल शरद पवार की राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी से पूर्व में केंद्रीय मंत्री भी रह चुके हैं. कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने रविवार दोपहर संवाददाताओं से कहा कि जब वाट्सएप ने उन सभी लोगों को मैसेज भेजे जिनके फोन हैक कर लिए गए थे, तो ऐसा ही एक मैसेज प्रियंका गांधी को भी मिला था.

पिछले हफ्ते वाट्सएप ने आरोप लगाया कि इजराइल की साइबर सुरक्षा कंपनी एनएसओ ने स्पायवेयर पेगासस फैलाने के लिए वाट्सएप सर्वर का इस्तेमाल किया. इसमें बीस देशों के करीब 1,400 यूजर्स को निशाना बनाया गया और उनके फोन को हैक किया गया. भारत में भी दर्जनों लोगों का आम चुनाव से पहले अप्रैल में दो हफ्ते तक जासूसी की गई थी. इनमें ज्यादातर भारतीय पत्रकार, कार्यकर्ता, वकील और वरिष्ठ सरकारी अधिकारी शामिल थे. फेसबुक ने एनएसओ पर मुकदमा दायर किया है. हालांकि एनएसओ का दावा है कि वह अपने प्रॉडक्ट्स का लाइसेंस केवल वैध सरकारी एजेंसियों को ही देती है. 

कांग्रेस ने भाजपा सरकार को बेनकाब करने के दावा करते हुए कुछ सवाल पूछे हैं. कांग्रेस की मांग है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इन सवालों का जवाब दें. सुरजेवाला ने भाजपा को भारतीय जासूस पार्टी कहते हुए कहा कि सरकार इस मुद्दे के बारे में सब जानते हुए भी चुप थी. उन्होंने कहा कि 12 सितंबर को, आईटी मंत्री रविशंकर प्रसाद फेसबुक के वाइस प्रेसिडेंट से मिले, लेकिन उन्होंने हैकिंग के मुद्दे को नहीं उठाया. वहां एक रहस्यमयी खामोशी थी. 

वाट्एसएप जासूसी कांड में केंद्र सरकार ने भले ही कहा हो कि उसका इसमें कोई हाथ नहीं है लेकिन कांग्रेस हमलावर है. कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने भी सरकार को घेरते हुए पांच साल पूछे हैं. उन्होंने कहा कि इजरायली कंपनी एनएसओ स्पाइवेयर पेगासस को सिर्फ सरकारों को बेचती है. इससे पहले वाट्सएप की ओर से हमारी सरकार को कोई जवाब दिया जाए इन सवालों के उत्तर मिलने जरूर मिलने चाहिए. कपिल सिब्बल ने पूछा कि सरकार के कौन से विभाग ने पेगासस को खरीदा, इसकी कीमत क्या है, यह ऑपरेशन किनके हाथ में था, जासूसी करने का निर्देश किसने दिया, और कौन से दूसरे प्लेटफॉर्म के साथ छेड़छाड़ की है. वाट्सएप की ओर से कई भारतीयों को इस बात की सूचना दी गई है कि इजरायली कंपनी के स्पाइवेयर पेगासस का इस्तेमाल करके उनकी जासूसी की गई है. वाट्सएप के मुताबिक इस स्पाइवेयर के जरिए 20 देशों के नागरिकों की जासूसी की गई है. (राजनीतिक-सामाजिक मुद्दों पर सटीक विश्लेशण के लिए पढ़ें और फॉलो करें).



Post a Comment

0 Comments