IFFI 2019: अमिताभ बच्चन की 50 साल की फ़िल्मी यात्रा पर विशेष आयोजन

गोवा में चल रहे 50वें इफ्फी महोत्सव के दूसरे दिन भी रोमांच अपने चरम पर रहा. दूसरे दिन सभी की नजरें अमिताभ बच्चन पर थीं. हो भी क्यों ना क्योंकि इसी साल सितंबर में दादा साहेब फाल्के पुरस्कार के लिए अभिताभ बच्चन के नाम की घोषणा की गई थी और सिनेमा में उनके योगदान के लिए उन्हें सम्मानित करते हुए गोवा में 50वें अंतरराष्ट्रीय भारतीय फिल्म महोत्सव में उनकी फिल्मों का विशेष आयोजन किया गया. इस मौके पर अमिताभ बच्चन ने कहा कि सिनेमा एक सार्वभौम माध्यम है, जो लोगों को उनके सामाजिक एवं आधुनिक जीवन के मतभेदों से अलग रखकर एक साथ लाता है. उन्होंने ये भी कहा कि तेजी से बिखरती दुनिया में सिनेमा सहित सिर्फ कुछ ही चीजें हैं जो सामुदायिकता और शांति के विचार को बढ़ावा देती हैं.

गोवा में 28 नवंबर तक चलने वाले फिल्म महोत्सव के दौरान अमिताभ बच्चन की 50 साल की फिल्मी यात्रा पर इफ्फी में एक कार्यक्रम आयोजित किया जा रहा है जिसमें ‘शोले’, ‘ब्लैक’, ‘पीकू’, ‘दीवार’ और ‘बदला’ जैसी उनकी फिल्में दिखाई जाएंगी.

भारतीय अंतरराष्ट्रीय फिल्म महोत्सव के 50वें संस्करण के इंडियन पैनोरमा सेक्शन का भी गुरुवार को उद्घाटन हुआ. इस मौके पर इंडियन पैनोरमा फीचर फिल्म जूरी के हेड प्रियदर्शन के साथ-साथ मशहूर फिल्म निर्देशक राहुल रावेल और अन्य निर्देशकों का इस मौके पर स्वागत किया गया. इस सेक्शन में 26 फीचर और 15 नॉन-फीचर फिल्में दिखाई जाएंगी. अभिषेक शाह द्वारा निर्देशित गुजराती फिल्म हेलारो इस सेक्शन की ओपनिंग फिल्म रही.

फिल्म हेलारो 1975 में गुजरात के कच्छ के रण में एक छोटे से गांव में स्थापित एक उच्च पितृसत्तात्मक समाज पर आधारित फिल्म है, जिसमें महिलाओं की जिंदगी को बखूबी से दर्शाया गया है. यह एक तरह से सामाजिक मुद्दों को लेकर बनाई गई फिल्म है.

सूचना और प्रसारण सचिव अमित खरे ने इस मौके पर एक हाइटेक इंटरएक्टिव मल्टी मीडिया प्रदर्शनी का उद्घाटन किया, जिसमें इफ्फी की 1952 से अब तक की यात्रा को दिखाया गया है. इस प्रदर्शनी का मकसद भारतीय फिल्मों को वैश्विक स्तर पर इफ्फी के जरिए कैसे पहचान मिली, ये बताना है साथ ही ये भी दर्शाना है कि किस तरह विश्व की दूसरी फिल्में भी भारत में प्रदर्शित की जाती रही हैं.

इस मौके पर NFAI 2020 कैलेंडर को भी लांच किया गया. वहीं मास्टर क्लास भी लगाई गई, जिसमें फिल्म समीक्षक तरन आदर्श ने फिल्मों के प्रोडक्शन, उनकी मार्केटिंग और डिस्ट्रीब्यूशन से संबंधी जानकारी मौजूद लोगों को दी.

साथ ही मास्टर फ्रेम्स सेक्शन की शुरुआत भी हुई, जिसमें दुनिया की 17 फिल्मों को प्रदर्शित किया जाएगा. इसमें वैश्विक स्तर के कुछ मशहूर निर्देशकों की फिल्में शामिल हैं. सेक्शन की शुरुआत कमिंटमेंट फिल्म से हुई.



Post a Comment

0 Comments