धान खरीदी में सरकार से किसानों को मिली निराशा – चंद्राकर

रायपुर
राज्य सरकार ने धान खरीदी मामले में किसानों को रूलाया है धान पकडे के लिए पटवारी, पुलिस से लेकर विभाग के प्रमुख सचिव तक लगे हैं। सरकारी निदेर्शों के अतिरिक्त मौखिक निर्देश पर भी कार्रवाई हो रही है। भाजपा के पूर्व मंत्री  तथा कुरूद के विधायक अजय चंद्राकर ने पत्रकार वार्ता में  सरकार की नीतियों और कार्यप्रणाली की जमकर आलोचना की।

धान खरीदी पर सरकार पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि सरकार ने धान 2500 रुपये में खरीदने का वादा किया था। लेकिन डिफरेंस की राशि कैसे देंगे? इसका पता लगाने कमेटी बना दी, हमने इससे पहले एक कमेटी का हश्र देखा है। शराबबंदी को लेकर कमेटी बनाई थी। नशे के मामले में छत्तीसगढ़ ने पंजाब को भी पीछे छोड़ दिया है। सरकार ने सिर्फ भावनात्मक मुद्दों को उठाने की कोशिश की है। नरवा, गरवा, घुरवा, बाड़ी क्या लाभ मिला? चन्द्राकर पूर्व मंत्री ने कहा कि पंचायत ग्रामीण विकास का बजट सरकार ने घटाया है। 14 वें वित्त आयोग का पूरा पैसा नरवा, गरवा, घुरवा, बाड़ी में लगा दिया है लेकिन इस योजना का क्या लाभ मिला है? उन्होंने कहा कि ग्रामीण अर्थव्यवस्था को मजबूत करने के नाम पर एक ऐसी योजना शुरू कर दी गई है, जिसका कोई सिर पैर नही है। पंचायत के पैसे का सरकार गलत उपयोग कर रहे हैं। छेरछेरा के मौके पर हम शुरू करेंगे भात पर चर्चा विधायक ने कहा कि हम छेरछेरा के मौके पर हम भात पर चर्चा शुरू करेंगे। छत्तीसगढ़ की संस्कृति भात (चावल) से जुड़ी है। इस मौके पर हम 20 हजार गांवों तक जाकर चर्चा करेंगे। त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव शुरू हो रहे हैं। जिसके लिए बीजेपी ने सभी 27 जिलों में अपने पैनल की घोषणा कर दी है। पहली बार जनपद स्तर तक हमने पैनल बनाया है। प्रदेश से हम जिला पंचायत और जनपद पंचायत तक की मॉनिटरिंग करेंगे। भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डॉ रमन सिंह के निजी सहायक ओपी गुप्ता की गिरफ्तारी से भाजपा ने पल्ला झाड़ लिया। पूर्व मंत्री ने कहा- यह भाजपा से जुड़ा विषय नहीं है। इस पर पार्टी की ओर से कोई प्रतिक्रिया नहीं दी जाएगी।



Post a comment