अमेरिका के प्रस्तावित इज़राइल-फिलीस्तीन शांति प्रस्ताव को फिलीस्तीन और हमास ने किया खारिज

लंबे इंतजार के बाद आखिरकार अमेरिका के राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप ने व्हाइट हाउस में इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू के साथ मध्य-पूर्व में शांति स्थापित करने के लिए अपनी योजना का ऐलान कर दिया। इस शांति योजना को पेश करते हुए ट्रंप ने कहा कि यरुशलम इज़राइल की अविभाजित राजधानी रहेगी। साथ ही ट्रंप ने कहा कि इज़राइल ने शांति की दिशा में बड़ा कदम उठाया है। ट्रंप ने फलस्तीन की राजधानी के लिए पूर्वी यरुशलम का प्रस्ताव दिया और कहा कि यह फलस्तीनियों के लिए अंतिम मौका हो सकता है। हालांकि उन्होंने कहा कि इस योजना के तहत किसी भी इसरायली या फ़लस्तीनी को उनके घरों से उजाड़ा नहीं जाएगा।

इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने योजना का स्वागत करते हुए कहा है कि इससे क्षेत्र में लंबे समय के लिए शांति स्थापित हो सकती है।

उधर फ़लस्तीन के राष्ट्रपति महमूद अब्बास ने ट्रंप की ओर से जारी की गई इस शांति योजना को ख़ारिज करते हुए कहा कि  कोई भी फ़लस्तीनी कभी भी एक ऐसे देश को स्वीकार नहीं कर सकता जिसकी राजधानी यरूशलम में हो। फ़लस्तीन के प्रमुख संगठन हमास ने भी इस योजना को सिरे से साफ तौर पर खारिज कर दिया है।

ट्रंप की इस शांति योजना का क्षेत्र के कई देश और संगठन विरोध कर रहे हैं। ईरान के विदेश मंत्री जवाद ज़रीफ ने इस योजना को क्षेत्र के लिए एक बुरे सपने जैसा करार दिया। योजना के खिलाफ जॉर्डन और तुर्की में भी प्रदर्शन का आयोजन किया गया। इससे पहले मंगलवार को ग़जा पट्टी में हज़ारों फ़लस्तीनियों ने भी इस शांति योजना के ख़िलाफ़ विरोध प्रदर्शन किया था।
 



Post a Comment