चीन में कोरोना वायरस ने लिया खतरनाक रूख, विश्व स्तर पर बचाव कार्य जारी

चीन में कोरोना वायरस खतरनाक रूख अख्तियार करता जा रहा है। चीन में कोरोना वायरस की चपेट में आने से कम से कम 106 लोगों की मौत हो चुकी है। इसके साथ ही इस वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या 3000 के पार चली गई है। स्थिति की गंभीरता को देखते हुए चीन में स्थित भारतीय दूतावास वुहान से भारतीयों को निकालने के लिए चीन की सरकार से बात कर रही है।

बीजिंग में प्रसार भारती के विशेष संवाददाता ने बाताया कि भारतीय दूतावास ने वुहान में रह रहे भारतीयों ने अपनी सभी जानकारी मुहैया कराने का आग्रह किया है ताकि चीन के अधिकारियों के साथ सभी औपचारिकताएं पूरी हो सकें जो कि वुहान से वापसी के लिए जरूरी है। हुबेई ने चीनी लोगों के लिए सामान्य पासपोर्ट और निकास-प्रवेश परमिट के आवेदन के लिए सेवाओं को निलंबित कर दिया है। चीन के वैज्ञानिक कोरोना वायरस के लिए टीका विकसित करने की कोशिश कर रहे हैं।

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कल कहा कि स्वास्थ्य कर्मियों का बचाव करना जरूरी है क्योंकि चीन में अब तक कोरोना वायरस की वजह से 106 लोगों की मौत हो गई। विश्व स्वास्थ्य संगठन की नई बीमारी इकाई की एक्टिंग हेड मारिया वान केरखोव ने कहा कि यह जरूरी है कि अस्पताल अपने यहां मौजूद संक्रमण बचाव एवं नियंत्रण उपायों को पर्याप्त रुप से तैयार रखना सुनिश्चित करें।  

दक्षिण कोरियाई सरकार ने देश में कोरोना वायरस के चौथे मामले की पुष्टि के बाद इससे निपटने के प्रयास और तेज कर दिए है। दक्षिण कोरिया के स्वास्थ्य और कल्याण मंत्री ने कोरोनो वायरस पर पहली आपातकालीन बैठक की अध्यक्षता की। बैठक में कोरोना वायरस के फैलने पर चिंता जताते हुए कड़े कदम उठाने की बात कही गयी। दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति ने भी वुहान से आने वाले सभी लोगों के गहन निरीक्षण का आदेश दिया।

श्रीलंका के स्वास्थ्य अधिकारियों ने कल देश में कोरोना वायरस से संक्रमण के पहले मामले की पुष्टि की। संक्रमित व्यक्ति चीनी पर्यटक है। देश के स्वास्थ्य मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि संक्रमित महिला की उम्र करीब 40 साल है और वह पिछले सप्ताह चीन के हुबेई प्रांत से पर्यटक के रूप में श्रीलंका आयी थी। बुखार से पीड़ित महिला को अस्पताल में भर्ती कराया गया है। 

जर्मनी के विदेश मंत्री हेइको मास ने कल कहा कि जर्मन सरकार चीन के कोरोना वायरस प्रभावित इलाकों से जर्मन लोगों को बाहर निकालने पर विचार कर रही है। उन्होंने बताया कि बीजिंग में जर्मन दूतावास से एक दल वुहान पहुंचकर वहां मौजूद जर्मन लोगों की मदद करेगा। उन्होंने यह सुझाव भी दिया कि जर्मन लोगों को चीन की गैर-जरूरी यात्रा से बचना चाहिए।    

थाईलैंड के प्रधानमंत्री ने कहा है कि कोरोना वायरस का प्रकोप नियंत्रण में है। चीन के बाद थाईलैंड कोरोनावायरस से सबसे अधिक प्रभावित देश है। राष्ट्रीय टेलीविज़न प्रसारण के दौरान प्रधानमंत्री ने स्थिति के पूरी तरह से नियंत्रण होने का आश्वासन दिया। थाईलैंड में अब तक कोरोना वायरस के 8 मामले दर्ज किए गए हैं जिनमें से सात वुहान से आए चीनी यात्री हैं और एक थाई महिला हैं जिन्होंने बीमारी के दौरान वुहान शहर का दौरा किया था। बीमारी से निपटने के लिए स्वास्थ्य मंत्री ने परिवहन और पर्यटन मंत्रालयों के साथ बैठक की। 



Post a Comment