गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर देश के नाम राष्ट्रपति का संदेश

गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने राष्ट्र को संबोधित किया। राष्ट्र के नाम  अपने संबोधन में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने कहा कि हमारे  संविधान ने हम सब को एक स्वाधीन लोकतंत्र के नागरिक के रूप में कुछ अधिकार प्रदान किए हैं लेकिन संविधान के अंतर्गत ही, हम सब ने यह जिम्मेदारी भी ली है कि हम न्याय, स्वतंत्रता और समानता तथा भाईचारे के मूलभूत लोकतांत्रिक आदर्शों के प्रति सदैव प्रतिबद्ध रहें।

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने कहा कि जन कल्याण के लिए सरकार ने कई कार्यक्रम चलाए हैं। राष्ट्रपति ने कहा कि ये बात विशेष रूप से उल्लेखनीय है कि नागरिकों ने स्वेच्छा से उन अभियानों को लोकप्रिय जन-आंदोलनों का रूप दिया है।

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने जल संकट का जिक्र करते हुए कहा कि बढ़ते हुए जल-संकट का प्रभावी ढ़ग से सामना करने के लिए जल शक्ति मंत्रालय का गठन किया गया है और जल संरक्षण एवं प्रबंधन को सर्वोच्च प्राथमिकता दी जा रही है।



Post a Comment