JNU में छात्र पर हमला, हमलावर बोले- नजीब की तरह कर देंगे गायब

 
नई दिल्ली 

जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी (जेएनयू) के एक छात्र की कथित तौर पर कुछ छात्रों ने पिटाई कर दी, जिसके बाद उसे सफदरजंग अस्पताल में भर्ती कराया गया है. छात्र को पीटने का आरोप यूनिवर्सिटी के ही तीन छात्रों पर है. पीड़ित का नाम रागिब इकराम है और वह नर्मदा हॉस्टल में रहता है.

न्यूज एजेंसी एएनआई के मुताबिक, रागिब ने रविवार को हॉस्टल में स्पेशल डिनर के दौरान आरोपियों को इस वजह से खाना देने से इनकार कर दिया था, क्योंकि वे दूसरे हॉस्टल के थे. इसके एक दिन बाद सोमवार को तीनों छात्रों ने कथित तौर पर रागिब की पिटाई कर दी.
 
वहीं, इस पूरी घटना पर रागिब के भाई ने कहा कि उसके (रागिब) रूममेट ने बताया कि हमलावरों ने कहा कि वह मुस्लिम है और उसे वे नजीब की तरह गायब कर देंगे. रागिब के भाई ने आगे कहा कि उसे सीने और सिर पर मारा गया और दो थप्पड़ भी जड़ा गया. जब मैं अपने भाई को अस्पताल ला रहा था तो हमलावरों के दरवाजे पर एबीवीपी का पोस्टर देखा.

इस घटना पर जेएनयू छात्र संघ की अध्यक्ष आइशी घोष का भी बयान आया है जिन्होंने एबीवीपी के छात्रों पर हमला करने का आरोप लगाया है. हालांकि एबीवीपी ने इसे सिरे से खारिज कर दिया और कहा कि रैगिंग की घटना को इससे जोड़ा जा रहा है. आइशी घोष ने फेसबुक पोस्ट में लिखा है, जेएनयू हमले के 14 दिन गुजर गए लेकिन अब तक एक भी गिरफ्तारी नहीं हुई है. आज फिर एक छात्र को एबीवीपी से जुड़े छात्रों ने पीटा. वे छात्र को पीटने के लिए नर्मदा हॉस्टल के रूम में घुस गए.

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक, आइशी घोष ने कहा, ऐसा आगे नहीं चलने दे सकते. सीनियर वार्डन और प्रोक्टर को आरोपियों के खिलाफ तुरंत कार्रवाई करनी चाहिए. हालांकि, आरएसएस से जुड़े एबीवीपी ने दावा किया कि अकरम को नर्मदा हॉस्टल में कुछ छात्रों ने धमकाया था. एबीवीपी ने कहा, लेफ्ट और नेशनल स्टूडेंट्स यूनियन ऑफ इंडिया (एनएसयूआई) यूनिवर्सिटी को काम करने नहीं दे रहे हैं. उन्होंने दावा किया, बीए द्वितीय वर्ष के छात्रों के साथ रैगिंग की दुर्भाग्यपूर्ण घटना को रैगिंग के आरोपी व्यक्ति के खिलाफ एबीवीपी हिंसा के एक मामले के रूप में दिखाया जा रहा है.



Post a comment