आरबीआई की मौद्रिक नीति समिति की बैठक, छठी द्विमासिक मौद्रिक नीति की घोषणा कल

भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास की अध्यक्षता में मौद्रिक नीति समिति की तीन दिन की बैठक कल मुंबई में शुरू हुई। 2019-20 की छठी द्विमासिक मौद्रिक नीति की घोषणा कल की जाएगी। केंद्रीय बजट में राजकोषीय घाटा बढ़ने का अनुमान व्यक्त किया गया है। मौद्रिक नीति समिति पर खुदरा मुद्रास्फीति चार प्रतिशत तक सीमित रखने का दायित्व है। पिछले वर्ष दिसंबर में मुद्रास्फीति सात प्रतिशत के आंकड़े को पार कर गई थी।

इसे देखते हुए रिजर्व बैंक ने यथास्थिति बनाए रखते हुए रेपो दर में कोई बदलाव नहीं किया था और इसे पांच दशमलव एक-पांच प्रतिशत पर बनाए रखा था। विशेषज्ञों का मानना है कि मौद्रिक नीति समिति के सदस्यों के समक्ष कठिन स्थिति होगी, क्योंकि अर्थव्यवस्था की सुस्ती को देखते हुए रेपो दर में कटौती जरूरी होगी जबकि बढ़ती मुद्रास्फीति और राजकोषीय घाटे के कारण रेपो दर में बढ़ोतरी या यथास्थिति बनाए रखना जरूरी होगा। 



Post a comment