कोरोना वायरस का कहर जारी

दुनिया भर के लिए चिंता का सबब बने कोरोना वायरस से चीन में अब तक 564 लोगों की मौत हो चुकी है। जबकि 28 हज़ार से भी ज्यादा लोगों को इससे संक्रमित पाया गया है। इस समस्या की गंभीरता को देखते विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कोरोना वायरस की महामारी का मुकाबला करने के लिए 675 मिलियन अमरीकी डॉलर के अनुदान  की मांग की है। इस राशि को मुख्य रूप से उन देशों में खर्च किया जाएगा, जो विशेष रूप से इस रोग से खतरे में हैं। संगठन के अध्यक्ष ने जेनेवा में एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि इस रोग का मुकाबला करने के लिए रणनीति तैयार की गई है और उस पर काम शुरू हो गया है। उन्होंने कहा कि इस योजना के लिए अनुदान राशि अगले तीन महीनों में मिल जानी चाहिए। 

इस बीच टोक्यो ओलंपिक के आयोजकों ने बढ़ते कोरोनो वायरस महामारी का मुकाबला करने के मकसद से सार्वजनिक स्वास्थ्य अधिकारियों के साथ समन्वय करने के लिए एक टास्क फोर्स का गठन किया है।

चीन से बाहर अभी तक इस वायरस के 25 देशों में कुल 191 मामले सामने आए हैं। चीन से बाहर अभी तक दो लोगों के मरने की खबर मिली है। इनमें से एक मौत फिलीपींस में जबकि दूसरी मौत हांगकांग में हुई है। एहतियात के तौर पर हांगकांग ने घोषणा की है कि चीन से आने वाले सभी यात्रियों को अनिवार्य रूप से दो सप्ताह के लिए अलग सुरक्षित स्थान पर रखा जाएगा ताकि इस रोग के और मामले न बढ़ें।

उधर, जापान ने कोरोना वायरस संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए जिस क्रूज के यात्रियों को अलग-थलग रखा था, उनमें से 10 और लोग इससे संक्रमित पाए गए हैं। इसके साथ ही क्रूज पर सवार लोगों में से कुल 20 के कोरोना वायरस से संक्रमित होने की पुष्टि हुई है। जापान के अधिकारी ‘डायमंड प्रिंसेज’ क्रूज पर सवार यात्रियों में से अब तक 273 लोगों के नमूनों की जांच कर चुके हैं। क्रूज पर करीब 3700 यात्री सवार हैं, जो करीब 14 दिन तक नौका पर ही रहेंगे। जापान ने यह कदम 80 वर्षीय एक व्यक्ति के वायरस से पीड़ित पाए जाने के बाद उठाया गया है।

इस बीच ब्राजील ने चीन में कोरोना वायरस से पीड़ित वुहान शहर में फंसे अपने नागरिकों को निकालने के लिए दो विमान भेजे। ब्राजीलियाई लोगों के साथ चार चीनी परिवार के सदस्यों सहित कुल 29 लोगों को वहां से निकाला जा रहा है। इधर भारत में चीन के वुहान से वापस लाए गए सभी 645 लोगों को जाँच में नेगेटिव पाया गया है यानि कि उनमें कोरोना वायरस के लक्षण नहीं मिले हैं। हालाँकि खतरे से बचाव के लिए सरकार और प्रशासन पूरी तरह से सतर्क है। चीन में मौजूद 10 अन्य भारतीयों ने भी चीन से भारत वापस आने की इच्छा जताई है जिसके लिए भारत सरकार कोशिश कर रही है।

देश में अभी तक 1265 हवाई उड़ानों से आए 1 लाख 38 हजार 750 यात्रियों की जाँच की जा चुकी है। संदिग्ध लोगों की लगातार जाँच की जा रही है और इस दौरान उनको अलग-थलग रखा जा रहै है। तमाम उपायों का ही असर है कि भारत में अभी तक कोरोना वायरस से संक्रमण के तीन मामलों की पुष्टि हुई है जो कि केरल से है। इन तीनों की हालत स्थिर है। स्वास्थ्य विशेषज्ञ लगातार लोगों को ज्यादा से ज्यादा साफ सफाई पर ध्यान देने की सलाह दे रहे हैं।



Post a comment