कोरोना वायरस को लेकर समीक्षा बैठक

भारत कोरोना वायरस से निपटने के लिए हरसंभव तैयारी कर रहा है। सोमवार को प्रधानमंत्री के प्रधान सचिव पी के मिश्रा ने कोरोना वायरस मामले पर एक उच्च स्तरीय समीक्षा बैठक की। जिसमे राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार, कैबिनेट सचिव,चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ विपिन रावत सहित कई मंत्रालयों के सचिव शामिल हुए।
ग्रुप ऑफ मिनिस्टर की भी सोमवार को पहली बैठक हुई।  जिसमें स्वास्थ्य मंत्री, नागरिक उड्डयन मंत्री, विदेश मंत्री, गृह राज्य मंत्री किशन रेड्डी, स्वास्थ्य राज्य मंत्री अश्वनी चौबे, जहाज रानी मंत्री मनसुख भाई मांडविया,भी शामिल हुए । 

ग्रुप ऑफ मिनिस्टर को कोरोना वायरस पर स्वास्थ्य मंत्रालय की तरफ से उठाए गए कदमों के बारे में जानकारी दी गई । इस बैठक में बताया गया कि चीन से लाये गए 645 लोगों की रोज चिकित्सा जांच होती है। भारत में 338 सैंपल्स टेस्टिंग के लिए भेजे गए जिसमें से 335 नेगिटिव पाए गए जबकि 3 लोग कोरोनावायरस से संक्रमित पाए गए और 70 सैंपल्स की रिपोर्ट आनी बाकी है। भारत में 21 एयरपोर्ट, बंदरगाहों पर जांच हो रही है। विभिन्न राज्यों में 2815 लोगों को  निगरानी में रखा गया है । हांगकांग और चीन के अलावा सिंगापुर और थाईलैंड से आने वाली सभी उड़ानों में भी यूनिवर्सल स्क्रीनिंग की जा रही है। अभी तक 593  फ्लाइटस् की स्क्रीनिंग हो चुकी है जिनमें कुल 72353 यात्री थे।24x7 हेल्पलाइन नंबर 01123978046 की जानकारी दी गयी है ।  

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के निर्देश पर एक टास्क फोर्स का भी गठन किया गया है जिसमें गृह राज्य मंत्री जी किशन रेड्डी, स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन, उड्डयन मंत्री और विदेश मंत्री शामिल हैं। इसके अलावा सरकार ने सभी राज्‍यों और केंद्र शासित प्रदेशों के मुख्‍यमंत्रियों को पत्र लिखकर कोरोना वायरस के फैलाव पर कड़ी निगरानी रखने का निर्देश दिया है। केरल में तीन मामलों की पुष्टि होने पर केरल सरकार को भी भरोसा दिलाया गया है कि उसे स्थिति से निपटने के लिए हर प्रकार की मदद दी जाएगी। इन रोगियों को डॉक्‍टरों की निगरानी में रखा गया है और उनकी हालत स्थिर बनी हुई है । 

स्वास्थ्य मंत्रालय ने एक नयी ट्रेवल एडवाइजरी जारी करते हुए लोगों से चीन की यात्रा नहीं करने की सलाह दी है। और अगर यात्रा करनी ही पड़े तो वहां से वापस लौटने पर उन्‍हें अलग निगरानी में रहने को कहा गया है. इसके अलावा 15 जनवरी के बाद चीन जाने वाले और आज के बाद से वहां की यात्रा करने वालों को भी निगरानी में रहने को कहा गया है। इसके अलावा ऐहतियात के तौर पर भारत ने फिलहाल चीनी नागरिकों या चीन से आने वाले अन्य विदेशी यात्रियों की ई-वीजा की सुविधा को अस्थाई रूप से निलंबित कर दिया है. 

वहीं चीन में भारत के दूतावास ने चीन में उपस्थित भारतीयों के लिए एडवाइजरी जारी की है जिसमें उन्हें 24x7  दूतावास से निकट संपर्क बनाये रखने की बात कही गयी है।दूतावास ने दो हॉटलाइन नंबर, एक ईमेल और अपने सोशल मिडिया के माध्यम से संपर्क में रहने को कहा है। 

 

 



Post a comment