WHO: कोरोना वायरस के कारण आवागमन रोकने की जरूरत नहीं

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कोरोना प्रकोप को वैश्विक स्वास्थ्य आपात घोषित किया है। विश्व स्वास्थ्य संगठन प्रमुख ने कहा कि कोरोना वायरस के प्रकोप को रोकने की कोशिशों के तहत अंतर्राष्ट्रीय आवागमन और व्यापार में अनावश्यक हस्तक्षेप करने की जरूरत नहीं है। उन्होंने सभी देशों से सबूत आधारित और सुसंगत फैसले लेने की सलाह दी है। डब्ल्यूएचओ ने अपनी दैनिक रिपोर्ट में कोरोना के प्रकोप से जुड़े मिथकों और अफवाहों का जिक्र किया।  

डब्ल्यूएचओ अपनी वेबसाइट सहित ट्वीटर एवं अन्य सोशल मीडिया चैनलों पर इस बारे में अफवाहों से जुड़ी बातों के साथ ही जन स्वास्थ्य सूचना और सलाह भी उपलब्ध करा रहा है। वायरस से संबंधित गलत सूचनाओं और इस बीमारी की जड़ों को लेकर फैले भ्रम से लेकर इसके चामत्कारिक इलाज के झूठे दावों तक से प्रभावी तरीकों से निपटने की कोशिश की जा रही है। 

कोरोना वायरस को रोकने और इससे निपटने के लिए चीन हर मुमकिन कोशिश कर रहा है। चीन में कोरोनावायरस से अब तक 425 लोगों की मौत हो गई है। चीन के राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग ने 425 लोगों के मरने की पुष्टि की है। कल चीन में 3235 नए मामले सामने आए है। इस तरह चीन में अबतक कोरोनावायरस के 20,471 मामलों की पुष्टि हुई है, इसके अलावा 23,214 संदिग्ध मामलों की जांच की जा रही है।

चीन ने अमेरिकी स्वास्थ्य विशेषज्ञों को प्रभावित क्षेत्रों का दौरा करने की अनुमति दे दी है। इस बीच, राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने अधिकारियों को चेतावनी देते हुए कहा कि कोरोना वायरस के प्रकोप से निपटने की अपनी जिम्मेदारी निभाने में यदि कोई कोताही की तो उन्हें सज़ा मिलेगी। यह चेतावनी वुहान शहर में रिकॉर्ड 9 दिनों में एक हजार बेड वाले अस्पताल शुरू करने के साथ दी गई।

चीन में कोरोना वायरस को रोकने के लिए नई दवाई का परीक्षण हो रहा है। राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने यह भी कहा कि महामारी की रोकथाम और नियंत्रण के नतीजे सीधे लोगों के जीवन एवं स्वास्थ्य, आर्थिक एवं सामाजिक स्थिरता और देश में विकास कार्यों को प्रभावित करते हैं। उन्होंने कहा कि पार्टी और सरकार के जिन नेताओं की निगरानी में कोरोना वायरस से निपटने का काम हो रहा है, उनकी भी जिम्मेदारी तय होगी। 



Post a comment