मुख्यमंत्री ने लॉकडाउन के दौरान जनता की नब्ज जानने फोन पर लोगों से की बातचीत : कहा गांव में कोई भी भूखा ना रहे: राज्य सरकार जनता के साथ है, पूरी मदद करेंगे Chief Minister interacts with people on phone to know the pulse of public during lockdown

Chief Minister interacts with people on phone to know the pulse of public during lockdown
मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने लॉक डाउन के दौरान जनता की नब्ज जानने के लिए फोन पर सीधे समाज के विभिन्न वर्गों के लोगों से बातचीत की और उन्हें आ रही दिक्कतों के सम्बंध में जानकारी ली। मुख्यमंत्री ने अपने निवास से फोन के जरिये इनसे बातचीत की। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार लोगों की हर संभव मदद के लिए पूरे प्रयास कर रही है। मुख्यमंत्री ने प्रदेश के विभिन्न जिलों में रहने वाले किसान, मजदूर, नर्स, ग्रामीण, सफाईकर्मी, सब्जी दुकानदार, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता और महिला सरपंच से बातचीत की।

जूजगु ग्राम पंचायत में लोगों के घर पहंुचाकर दिया जा रहा है राशन
मुख्यमंत्री ने जशपुर जिले की ग्राम पंचायत जूजगु की महिला सरपंच श्रीमती कुंती बनवासी से फोन पर पूछा कि उनकी ग्राम पंचायत में उचित मूल्य की दुकान से राशन मिलना शुरू हुआ है या नहीं। श्रीमती कुंती ने बताया कि दो माह के राशन का वितरण प्रारंभ कर दिया गया है। लोगों को घर पहुंचाकर चावल दिया जा रहा है। मुख्यमंत्री ने उनके इस प्रयास की सराहना करते हुए कहा कि राशन पहुंचाते समय यह भी ध्यान रखें कि ज्यादा भीड़-भाड़ ना हो। मुख्यमंत्री ने स्कूलों के बच्चों को मध्यान्ह भोजन की सामग्री और आंगनबाड़ी के बच्चों को पोषण आहार वितरण के संबंध में भी पूछा। मुख्यमंत्री ने सरपंच से यह ध्यान रखने के लिए कहा कि गांव में कोई भूखा न सोए। श्रीमती कुंती ने बताया कि गांव में तीन ऐसे लोग हैं जिनके राशनकार्ड नही बने हैं। मुख्यमंत्री ने ऐसे लोगों को ग्राम पंचायत में रखे गए दो क्विंटल चावल में से चावल देने को कहा। मुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि अगर चावल खत्म हो जाए तोे अतिरिक्त चावल अधिकारियों से बोलकर प्राप्त कर लें। श्री बघेल ने गांवों में साफ-सफाई का ध्यान रखने और यदि गांव में किसी के कोरोना संक्रमण होने की जानकारी मिलती है तो इसकी सूचना वरिष्ठ अधिकारियों तक पहुंचाने के निर्देश दिए। श्री बघेल ने गांवों में खेती किसानी के काम और दुग्ध उत्पादन की स्थिति के बारे में भी जानकारी दी। उन्होंने कहा कि सरकार पूरी तरह जनता के साथ है और हर संभव मदद करेगी। श्रीमती कुंती ने मुख्यमंत्री को उनकी ग्राम पंचायत जूजगु आने का न्यौता दिया।

पंचर बनाने वाले भिलाई निवासी अशोक को आया मुख्यमंत्री का फोन
मुख्यमंत्री ने कहा, संकट की इस घड़ी में सरकार खड़ी है आपके साथ, किसी भी तरह की दिक्कत नहीं होने देंगे
अशोक ने कहा मुख्यमंत्री के फोन से मिला संबल

मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल का फोन आज भिलाई 3 के एकता नगर, वार्ड 8 के निवासी साईकल एवं पंचर सुधारने वाले श्रमिक श्री अशोक कटाने के पास भी आया। मुख्यमंत्री ने अशोक से कहा कि संकट की इस घड़ी में प्रदेशवासियों का कुशल-क्षेम जानने वे फोन से संपर्क कर रहे हैं और हर तबके से संपर्क कर रहे हैं ताकि उनका संबल बढ़ा सकें। इस परिस्थिति में शासन द्वारा लोगों को संकट से उबारने अनेक कदम उठाये गए हैं। इनका लाभ उन्हें किस तरह से मिल रहा है। यह जानने फोन किया है।

श्री अशोक ने मुख्यमंत्री को बताया कि जैसे ही लॉक डाउन हुआ, निगम के अधिकारी उनसे मिले और कहा कि आप घर में रहें, यदि खाने-पीने का संकट हो तो बताएं। निगम द्वारा स्वयं के स्तर पर भी और स्वयंसेवी संस्थाओं द्वारा भी इसकी व्यवस्था की जा रही है। अशोक ने मुख्यमंत्री को बताया कि राज्य सरकार द्वारा 2 महीने का चावल उचित मूल्य दुकान में उपलब्ध कराया गया है। इसे कल जाकर लेना है। अशोक ने बताया कि प्रशासन द्वारा एवं स्वयंसेवी संस्थाओं द्वारा भी जरूरतमंदों की मदद की जा रही है। उन्हें राशन तथा लंच पैकेट दिलवाए जा रहे हैं। सभी आश्वस्त हैं कि इतनी अच्छी व्यवस्था से लॉक डाउन का समय काटने में दिक्कत नहीं होगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार आपकी पूरी मदद करेगी। आप सभी को आश्वस्त करूँ इसलिए फोन लगाया है। अशोक ने कहा कि उन्हें बहुत अच्छा लगा, जब प्रदेश के मुखिया का फोन आया। इससे उन्हें बहुत संबल मिला है।

मुख्यमंत्री ने दंतेवाड़ा के चूड़ी टिकरा आंगनबाड़ी कार्यकर्ता से की फोन पर बातचीत
बच्चों को पौष्टिक आहार वितरण की जानकारी ली
घर जाकर पोषण आहार वितरण के साथ लोगों को कोरोना से बचाव के लिए जागरूक कर रही हैं आंगनबाड़ी कार्यकर्ता
मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने आंगनबाड़ियों के बच्चों का हाल चाल जानने के लिए दंतेवाड़ा जिले के चूड़ी टिकरा की कार्यकता श्रीमती शीला देवी को फोन लगाया। मुख्यमंत्री का फोन आने पर श्रीमती शीला ने प्रसन्नता जाहिर की। मुख्यमंत्री ने उनसे पूछा कि अभी आंगनबाड़ी बंद है, तो बच्चों को भोजन कैसे मिल रहा है। श्रीमती शीला ने बताया कि वे घर-घर जाकर बच्चों को पौष्टिक आहार वितरित कर रहे हैं। बच्चों के पोषण की स्थिति ठीक है।
   
श्री बघेल ने उनसे यह भी पूछा कि अभी आप लोग क्या काम कर रहे हैं। श्रीमती शीला ने बताया कि वे लोगों को कोरोना संक्रमण से बचने के लिए साबुन से बार-बार हाथ धोने, लोगों को तीन फीट की दूरी बनाए रखने की समझाईश दे रही हैं। मुख्यमंत्री ने उनकी सराहना की और कहा कि लोगों को कोरोना से बचाव की जानकारी तो दें और यह भी बताए कि बचाव में ही सुरक्षा है। श्री बघेल ने श्रीमती शीला को अपने काम के दौरान अपनी और अपने परिवार की सुरक्षा का ध्यान रखने की सलाह दी। मुख्यमंत्री ने उनसे यह भी पूछा कि गांव में लोग क्या काम रहे हैं। श्रीमती शीला ने बताया कि लोग घरों मंे ही रहते हैं। वे लोगों को यह भी बता रहे हैं कि बहुत ज्यादा जरूरी होने पर ही घर से बाहर निकले और अपनी सुरक्षा का ध्यान रखें।

मुख्यमंत्री ने श्रमिक युसुफ खान से मोबाईल पर बात की
बिलासपुर में ठहराएं गए विभिन्न राज्यों के श्रमिकों के रहने-खाने के इंतजाम की ली जानकारी
श्रमिक श्री खान ने व्यवस्था के लिये मुख्यमंत्री का जताया आभार
मुख्यमंत्री ने बिलासपुर के त्रिवेणी भवन में ठहरे श्रमिक श्री युसुफ खान से मोबाईल पर बात की। मुख्यमंत्री ने श्री युसुफ खान से रहने, खाने, पीने और अन्य सुविधाओं की जानकारी ली। श्री युसुफ खान ने बताया कि उन्हें खाने, पीने, रहने की कोई समस्या नहीं है, यहां जिला प्रशासन और नगर निगम द्वारा सभी व्यवस्था की गई है। सवेरे, शाम चाय-नाश्ते के साथ ही दोपहर एवं शाम का भोजन दिया जा रहा है। आवश्यकता अनुसार चिकित्सा सुविधा भी मुहैया कराई जा रही है। उन्होंने मुख्यमंत्री से अपने गांव जाने की इच्छा जताई। इस पर मुख्यमंत्री ने आश्वस्त किया कि कोरोना वायरस के कारण लॉक डाउन बहाल होने के बाद तत्काल उन्हें भेजने की व्यवस्था की जाएगी। युसुफ खान ने छत्तीसगढ़ में उनके लिए की गयी व्यवस्था के लिये मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल का आभार व्यक्त करते हुए धन्यवाद दिया है। 

श्री युसुफ खान नादिया पश्चिम बंगाल के रहने वाले हैं। वे भवन निर्माण में सेट्रींग का कार्य करते है। वे काम करने के लिये केरल गये थे। कोरोना वायरस के कारण केरल से पश्चिम बंगाल जाने के लिये निकले मजदूर बिलासपुर स्टेशन में आकर लॉक डाउन के कारण फंस गये और आगे जाने के लिये कोई ट्रेन नहीं थी। मुख्यमंत्री के निर्देश पर बिलासपुर जिला प्रशासन द्वारा केरल से आने वाले मजदूरों को व्यापार विहार स्थित त्रिवेणी भवन में रूकवाया गया है। यहां पश्चिम बंगाल के 50, असम के 7, बिहार के 3, झारखण्ड के 1, उत्तरप्रदेश के 1 एवं मध्यप्रदेश के 2 मजदूर रूके हुये हैं।

मुख्यमंत्री ने फोन पर कोरबा के सब्जी विक्रेता से की बात 
संकट के समय लोगों को सही दाम पर मिले सब्जियां सब्जि की आवक शुरू होने से डाउन हुए सब्जियों के रेट
    मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने लॉक डाउन के दौरान सब्जी विक्रेता से फोन पर बात कर बाजार में सब्जियों के दाम और किसानों को मिल रही कीमत के बारे में जानकारी ली। श्री बघेल ने आज अपने निवास से कोरबा के सब्जी विक्रेता श्री गोरेलाल चंद्रा को फोन मिलाया और बाजार में सब्जियों के दाम से अवगत कराया। मुख्यमंत्री ने उनसे पूछा कि किसानों को सब्जियों का बराबर दाम मिल रहा है या नही। बाजार में सब्जियों के दाम बढ़े तो नही है। श्री गोरेलाल ने मुख्यमंत्री को बताया कि किसानों को सही दाम मिल रहा है। लॉकडाउन की शुरूआत में सब्जियों के दाम बढ़े थे, लेकिन देहात से अब सब्जियों की आवक शुरू होने से दाम डाउन हुए हैं। दो-चार रूपए ज्यादा लेकर लोगों को सब्जियां बेच रहे हैं। श्री बघेल ने उनसे कहा कि यह संकट का समय है। लोगों को सही दाम पर सब्जियां मिलनी चाहिए। उन्होंने दुकान पर ज्यादा भीड़-भाड़ ना होने और लोगों के बीच एक मीटर की दूरी बनाकर सब्जियां बेचने की समझाईश दी।

मुख्यमंत्री ने किसान से पूछा कोई दिक्कत तो नहीं है
मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने लॉक डाउन के दौरान किसानों के सामने आ रही दिक्कतों की जानकारी लेने के लिए फोन पर जांजगीर-चांपा के खोखरा गांव के किसान श्री निखिल थवाईत से बात की। उन्होंने खेती किसानी के साथ गंाव का हाल जाना। मुख्यमंत्री ने उनसे पूछा कि कोई दिक्कत तो नहीें है। श्री थवाईत ने बताया कि ग्राम पंचायत से राशन मिल रहा है। जरूरतमंद लोगों को सहायता भी मिल रही है। जिला प्रशासन से भी हर तरह की मदद मिल रही है।
   
मुख्यमंत्री ने उनसे यह भी पूछा कि आपने अपने खेत में क्या लगाया है। श्री थवाईत ने मुख्यमंत्री को बताया कि लॉकडाउन के बाद काम बंद कर दिए हैं। खेत में थोड़ी हरी सब्जियां लगाई हैं। मुख्यमंत्री ने उनसे पूछा कि सब्जी बेचने में कोई परेशानी तो नही हो रही है। उन्होंने बताया कि नही। थोड़े बहुत मजदूर भी मिल जाते हैं। मुख्यमंत्री ने उनसे कहा कि सामाजिक दूरी बनाकर खेतों में काम करें। उन्होंने कहा कि इस समय थोड़ा संयम बनाकर रखें। सरकार आपके साथ है, पूरी मदद करेगी।

मुख्यमंत्री ने दूरभाष पर ए.एन.एम. से कोरोना
जन-जागरूकता की ली जानकारी
मुख्यमंत्री ने दूरभाष से रायपुर  जिले के गोगांव  प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में पदस्थ ए.एन.एम. श्रीमती पूनम वर्मा से कोरोना वायरस संक्रमण के चलते अस्पताल में व्यवस्था और वहां बरती जाने वाली सावधानियों के बारे में जानकारी ली।

श्री भूपेश बघेल ने अस्पताल में आने वाले मरीजों की संख्या,लोगो में कोरोना के प्रति जागरूकता और बचाव के लिए की गयी सुरक्षा व्यवस्था आदि के बारे में पूछा। इसके जवाब में श्रीमती वर्मा ने बताया कि अस्पताल में प्रतिदिन लगभग 30-40 मरीज सामान्य सर्दी-बुखार के आ रहे हैं। मरीजो के बारे में बताते हुए उन्होंने कहा कि आने वाले सभी लोग आवश्यक सुरक्षा बरत रहे हैं। मास्क लगाने के साथ-साथ मरीज सामाजिक दूरी का भी पालन कर रहे हैं। मुख्यमंत्री ने श्रीमती वर्मा से कहा कि आप बहुत महत्वपूर्ण कार्य कर रही हैं। जब आप खुद सुरक्षित रहेंगी, तभी दूसरों को सुरक्षित रख पाएंगी। मुख्यमंत्री ने उन्हें खुद के साथ अपने परिवार की सुरक्षा के लिए आवश्यक नियमों का पालन करने के लिए भी कहा। श्रीमती वर्मा ने मुख्यमंत्री को आश्वस्त किया कि वह खुद के साथ अपने परिवार की सुरक्षा का भी पूरा ध्यान रख रही हैं। मुख्यमंत्री श्री बघेल ने अस्पताल में व्यवस्था, सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम और लोगों को जागरूक करने के लिए श्रीमती वर्मा को बधाई दी और इसी तरह आगे भी कार्य करने के लिए कहा।
   
मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल से दूरभाष पर चर्चा के बाद श्रीमती वर्मा ने बताया कि प्रदेश के मुखिया से चर्चा कर और उनकी लोगो के स्वास्थ्य के प्रति भावना को जानकर वह अब और अधिक काम करने के लिए प्रोत्साहित हुई हैं। उन्होंने कहा कि देश, समाज और मानव सेवा के इस अवसर पर हम पूरी निष्ठा तथा ईमानदारी से अपने कर्तव्यों का निर्वहन करेंगे तथा कोरोना के संबंध में लोगों को जागरूक कर उन्हें इससे बचाएंगे।

Post a Comment