कैशलेस लेन-देन म छत्तीसगढ़ बनही अगुवा राज्य

राज्य स्तरीय कार्यशाला म 200 मास्टर ट्रेनर्स मन ल देहे गीस प्रशिक्षण



मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ह आज इहां नवीन विश्राम गृह म प्रदेश म कैशलेस लेन-देन ल बढ़ावा देहे खातिर आयोजित राज्य स्तरीय एक दिवसीय कार्यशाला के शुभारंभ करिन। ये समय म मुख्यमंत्री डॉ. सिंह ह मास्टर ट्रेनर्स मन संबोधित करत कहिन के छत्तीसगढ़ कैशलेस लेन-देन म देश के अगुवा राज्य बनही। दिसंबर महीना के आखरी तक प्रदेश के 10 लाख मनखे मन ल कैशलेस लेन-देन बर प्रशिक्षित करे जाही। ये डिजिटल आर्मी के माध्यम ले शहर ले लेके गांव तक लोगन ल कैशलेस लेन-देन खातिर प्रशिक्षित करे जाही। उमन कैशलेस लेन-देन खातिर लोगन ल प्रशिक्षित करे बर युवा मन ल जोड़े ल कहिन।
मुख्यमंत्री ह कहिस के छत्तीसगढ़ जनधन खाता चालू करे, नागरिक मन के आधार कार्ड बनवाये अउ स्वच्छ भारत अभियान के अंतर्गत गांव ल खुला म शौचमुक्त करे म आघू रहे हे। देश म लागू विमुद्रीकरण के छत्तीसगढ़ के मनखे मन स्वागत अउ समर्थन म जइसे उत्साह अउ धैर्य के परिचय देहे हें। येकर ले ये स्पष्ट हे के अवईया समय म कैशलेस लेन-देन के अभियान छत्तीसगढ म जन आंदोलन बनही। मुख्यमंत्री ह कहिस के येकर खातिर राज्य शासन कोति ले विस्तृत कार्ययोजना बनाये गए हे। संभाग ले लेके ग्राम पंचायत स्तर तक मनखे मन ल डिजिटल भुगतान खातिर प्रशिक्षण देहे के योजना हावय। हरेक ग्राम पंचायत म पचास आदमी ल डिजिटल भुगतान बर प्रशिक्षित करे जाही। मुख्यमंत्री ह आघू कहिन के प्रदेश के क्रेडिट धारक किसान मन ल रूपे कार्ड जारी करे जाही। ग्रामीण क्षेत्र म भुगतान बर आधार इनेबल्ड भुगतान प्रणाली अउ रूपे कार्ड ल बढ़ावा देहे जाही।मुख्यमंत्री ह कहिन के देश म 1 लाख करोड़ रूपया के नगदी लेन-देन के प्रक्रिया म 2100 करोड़ रूपया हर साल खर्चा होथे। येकर अप्रत्यक्ष भार जनता उपर ही परथे। डिजिटल पेमेंट ले भुगतान के प्रक्रिया पारदर्शी अउ सरल होगी। मुख्यमंत्री ह कहिन के प्रदेश म धान खरीदी अउ मुख्यमंत्री स्वास्थ्य बीमा योजना म भुगतान के प्रक्रिया म सूचना प्रौद्योगिकी के इस्तेमाल होवत हे येकर ले लाखों आदमी लाभान्वित घलव होवत हें। ये अवसर म छत्तीसगढ़ इंफोटेक प्रमोशन सोसायटी, चिप्स कोति ले मॉस्टर ट्रेनर्स के सहयोग बर हेल्पलाईन नंबर घलव जारी करे गईस। मुख्य सचिव विवेक ढांड ह कहिन के छत्तीसगढ़ नई तकनीक मन ल अपनाये म हमेंशा आघू रहे हे। प्रधानमंत्री जनधन योजना जब खलू होईस वो समय छत्तीसगढ़ के 1 करोड़ लोगन के बैंक खाता नइ रहिस। ये योजना के क्रियान्वयन म सरकार अउ जनता ह मिलके काम करिन अउ आज 90 लाख ले जादा मनखे के जनधन खाता खुल गए हे। देश म आधार पहचान संख्या के सबले जादा कव्हरेज छत्तीसगढ़ म हे। प्रदेश म 96 प्रतिशत लोगन के आधार बन गए हे।
इलेक्ट्रानिक्स एवं सूचना प्रौद्योगिकी विभाग के प्रमुख सचिव अमन सिंह ह राष्ट्रीय अउ अंतर्राष्ट्रीय परिदृश्य म कैशलेस भुगतान के जानकारी देवत कहिन के भारत म 94 प्रतिशत लेन-देन नगद आधारित होथे। जबकि विकसित देश मन म 80 ले 90 प्रतिशत भुगतान कैशलेस होथे। कालाधन अउ जाली नोट ल खतम करे के संग कैशलेश लेन-देन ल बढ़ावा देना विमुद्रीकरण के उद्देश्य आए। ये अवसर म छत्तीसगढ़ इंफोटेक प्रमोशन सोसायटी के मुख्य कार्यपालन अधिकारी एलेक्स पॉल मेनन अउ अधिकारी मन के द्वारा डिजिटल भुगतान के अलग-अलग तरीका मन के प्रशिक्षण देहे गईस। प्रशिक्षण म आन-आन विभाग ले आए मॉस्टर ट्रेनर्स मन डिजिटल पेमेंट के यूपीआई, एमएमआईडी, यूएसआईडी, एईपीएस, मोबाईल वॉलेट अउ बैंक कार्ड के माध्यम ले भुगतान करे के बारीकी मन ल समझिन। ये अवसर म अपर मुख्य सचिव अजय सिंह, गृह विभाग के प्रमुख सचिव बीआर सुब्रमण्यम, वित सचिव अमित अग्रवाल सहित अधिकारीमन उपस्थित रहिन।

Post a Comment

0 Comments