छत्तीसगढ़ के आदिवासी इलाका मन म गर्मी म घलोक हरित क्रांति

भरपूर पैदावार खातिर करत हें, धान के उन्नत बीज के खेती
किसान मन ल नवा प्रजाति के धान बीज देहे के तैयारी







रायपुर, 29 अपरेल 2017। गर्मि के ए आगी बरसत मौसम म घलोक छत्तीसगढ़ के आदिवासी बहुल इलाका मन म ‘हरित क्रांति’ के रौनक देखे जात हे, जऊन किसान मन के आर्थिक समृद्धि के एक बड़का जरिया बनही। राज्य सरकार हर ओ मन ल भरपूर पैदावार बर धान के उन्नत किसम के बीज देवाए के योजना बनाए हे। एखर तहत कई जिला मन म नवा प्रजाति मन के धान बीज के खेती करे जात हे। धमतरी जिला के आदिवासी बहुल ग्राम चनागांव म घलोक चालू रबी मौसम के समय आदिवासी किसान श्री बलराम नेताम संग नौ किसान मन के खेत म ‘नर-नारी’ नाम के धान के एक नवा किसिम के खेती होवत हे, जऊन किसान मन के अड़बड़ ध्यान खींचत हे। ए मन ल मिलाके धमतरी जिला म 1635 किसान उन्नत धान बीज बर 1522 हेक्टेयर म संकर नस्ल के बीज के पैदावार लेवत हें। एमां ले 195 किसान विकासखंड नगरी के हावय। ओ मन उन्नत बीज बर विकासखंड के अपन 183 हेक्टेयर खेत मन म संकर नसल के धान के पैदावार लेवत हें।
चनागांव के श्री बलराम नेताम के कहना हे क नवा फसल बर खेत म बीज उत्पादन एक चुनौतीपूर्ण काम हावय, जेमां ए तुलना म जादा मेहनत करना पड़थे, एखर बावजूद श्री नेताम अड़बड़ मेहनत ले एखर फसल लेवत हे। प्राथमिक शिक्षा प्राप्त श्री नेताम हर बताइस कि एक निजी कम्पनी के पावडर के घोल बनाके ओ मन रोज भिनसरहा आठ ले दोपहर तीन बजे बीच ओखर छिड़काव खेत म करथें। एखर ले पौधा के बढ़त के संगें-संग परागण (धान के फूल) के संख्या म घलोक काफी वृद्धि होथे। ए फूल ल बांस के माध्यम ले बालि मन म दूध आए तक हलाए जाथे। उमन बताइन कि ‘नर-नारी’ धान ले प्रति एकड़ 15 ले 20 क्विंटल धान के उत्पादन होही, जेमां ले अंदाजन आठ क्विंटल नारी धान के बीज ल कंपनी ले छह हजार रूपए प्रति क्विंटल के दर ले लेहे जाही, जबकि बाकी बचे 9-10 क्विंटल धान बीज ल बाजार म 1300 ले 1500 रूपए प्रति क्विंटल के मान ले बेचे जाही। ए प्रकार 62 हजार रूपए ले जादा आमदनी होही अउ 35 हजार ले 50 हजार रूपए तक प्रति एकड़ शुद्ध आय मिलही।
कृषि विभाग के अधिकारी मन के अनुसार उन्नत धान बीज उत्पादन कार्यक्रम म विभाग के हरित क्रांति विस्तार योजना ले 1500 रूपए प्रति एकड़ म किसान मन ल बीज उत्पादन अनुदान घलोक मिलही। अतकेच नइ, बलराम के अलावा ग्राम के नौ अऊ किसान मन हर घलोक ‘नर-नारी‘ वेरायटी के धानबीज के पैदावार लेवत हें। एखर जइसे वनांचल क्षेत्र म घलोक निवासरत किसान हरित क्रांति ले जुड़के नवाचार अपनावत हें जऊन अपन आप मन म उपलब्धि हावय।




style="display:block"
data-ad-client="ca-pub-3208634751415787"
data-ad-slot="4115359353"
data-ad-format="link">



style="display:block"
data-ad-format="autorelaxed"
data-ad-client="ca-pub-3208634751415787"
data-ad-slot="1301493753">

Post a Comment

0 Comments