छत्तीसगढ़ी भाखा के सरलग जन जागरूकता अभियान






रायपुर, 30 अप्रैल 2017। छत्तीसगढ़ी भाखा छत्तीसगढ़ राज्य के राजभाषा के संग मातृभाषा घलोक आए, 2008 म राजभाषा के दर्जा मिले के बाद ले आज तक छत्तीसगढ़ी भाखा अपनेच राज्य म स्थापित नइ हो पाय हे। छत्तीसगढ़िया क्रान्ति सेना सरलग बेरा-बेरा म छत्तीसगढ़ी भाखा ल लेके कार्यक्रम अउ आंदोलन करत आवत हे। क्रान्ति सेना ह पाछू दस हफ्ता ले "छत्तीसगढ़ी भाखा जन जागरूकता अभियान" के संग गाँव अउ शहर मन मं रैली के माध्यम ले छत्तीसगढ़ी भाखा ल जन-जन तक पहुँचावत हे। ए मुहिम मं हर इतवार भिनसरहा 6 ले 8 बजे तक क्रांति सेना के सैनिक मन, शहर के चउंक अउ वार्ड मन मं जाके मनखे मन ल छत्तीसगढ़ी भाखा बर जागरूक करत हें, अउ घर-घर जाके महतारी भाखा छत्तीसगढ़ी के प्रयोग करे के निवेदन करत हे।
रायपुर शहर अध्यक्ष राजकुमार साहू हर बताइस कि ए मुहिम के शुरुआत इतवार को होवइया मटर गस्ती वाले कार्यक्रम ले करे गीस, सरलग तीन हफ्ता भिनसरहा तेलिबांधा तालाब मं बैनर-पोस्टर ले मनखे मन ल छत्तीसगढ़ी भाखा बोले-लिखे अउ पढ़े के संदेश दे जात हे। जेखर बाद प्रगति नगर, विकास नगर, गुढ़ियारी, गोगांव, सीतानगर, रामनगर, दलदल सिवनी,  मोवा, लोधीपारा मं लगातार जन जागरूकता अभियान चलाय गीस, आगू घलोक ए आयोजन ल जारी रखे जाही, ए मुहिम मं शहर के जम्‍मो पदाधिकारी मन के संगें संग जनता के घलो पूरा सहयोग मिलत हे।
छत्तीसगढ़िया क्रान्ति सेना के प्रदेश उपाध्यक्ष डॉ. अजय यादव हर लोगन ले अपील करे हें कि ए जन जागरूकता अभियान मं संघर के छत्तीसगढ़ी भाखा ल स्थापित करे मं सहयोग करव। रायपुर के अलावा ए अभियान ल दुर्ग भिलाई मं घलोक चलाए जात हे। भिलाई अध्यक्ष जितेन्द्र रात्रे के कहना हावे कि भिलाई ले भारी संख्या मं मनखे मन ए जन जागरूकता अभियान मं संघरत हें।




style="display:block"
data-ad-client="ca-pub-3208634751415787"
data-ad-slot="4115359353"
data-ad-format="link">



style="display:block"
data-ad-format="autorelaxed"
data-ad-client="ca-pub-3208634751415787"
data-ad-slot="1301493753">

Post a Comment

0 Comments