साडा के भू-खण्ड आवंटन के संबंध मं उंखर उपर लगाए गए आरोप तथ्यहीन: श्री मुकेश गुप्ता

रायपुर, भूपेश बघेल के लगाए आरोप के संबंध म खुलासा करत, ईओडब्ल्यू के एडीजी मुकेश गुप्ता ह, उनला होए प्लाट आवंटन के संबंध मं, वस्तुस्थिति के जानकारी देवत कहे हें कि साडा ले उनला वैधानिक तरीका से प्लाट के आवंटन होय हे। प्लाट आवंटन के संबंध मं उंखर उपर लगाए गए जम्‍मो आरोप तथ्यहीन अऊ निराधार हे।
श्री गुप्ता हर बताए हें कि साडा मं पदेन सदस्य मन ल रियायती दर म प्लाट देहे के प्रावधान रहिस हे, जेखर सेती साडा के ओ समें के जम्‍मो पदेन सदस्य मन ल रियायती दर म प्लाट आवंटित होए रहिस हे। एमां साडा के पदेन सदस्य के रूप मं ओ समें के कलेक्टर अऊ पुलिस अधीक्षक ल घलोक प्लाट आवंटित करे गए रहिस हे। श्री गुप्ता हर बताए हे कि साडा के इही प्रावधान के तहत ओ मन ल छै हजार वर्ग फीट के प्लाट आवंटित होए रहिस हे, जेकर कीमत ओ समय अंदाजन 75 हजार रूपए रहिस हे। ये आवंटन पत्र उंखर दुर्ग पदस्थापना अउ साडा के पदेन सदस्य रहे के समय म ही जारी करे गए रहिस हे। उमन कहिन कि प्लाट खरीदी के पूरा जानकारी ऊंमन मध्यप्रदेश सरकार ल विधिवत रूप से देहे रहिन, जऊन ल मध्यप्रदेश शासन ह मान्य करे रहिस हे।
श्री गुप्ता हर बताइस कि मकान निर्माण के नक्शा 2001 मं पास करवाए गीस ओखर बाद मध्यप्रदेश शासन अऊ एसबीआई ले करजा लेके मकान बनवाए गीस। ओ समय शासन ले घर बनवाए बर करजा घलो मिले के प्रावधान रहिस हे। श्री गुप्ता हर कहिन कि 2006 मं ए मकान ल बेच के दिल्ली मं फ्लैट खरीदेंव। साडा ले आवंटित भू-खण्ड म बने मकान ल बेचे से संबंधित जम्‍मो जानकारी शासन ल उही समे दे इेहे रहेंव। एखर अलावा शासन ल हर साल चल-अचल सम्पत्ति के व्यौरा देवत हंव अऊ आयकर विवरणी मं घलोक ए सब के जानकारी देहे हंव। अइसन स्थिति म मोर उपर गलत तरीका ले भूखंड बिसाये के लगाए गए आरोप निराधार हे।

Post a Comment

0 Comments