सर्वेश्वर एनीकट: निविदा प्रक्रिया पूरा नियम म, कउनो अनियमितता नहीं

जल संसाधन विभाग के प्रमुख अभियंता ह दीन जानकारी
रायपुर, 01 अगस्त 2017। जल संसाधन विभाग के प्रमुख अभियंता ह आज इहां जारी  प्रेस विज्ञप्ति म बताइस कि सर्वेश्वर एनीकट निर्माण बर विभाग कोति ले निविदा प्रक्रिया म नियम मन के पालन सुनिश्चित करे गए हे। उमन बताइन कि कोरबा शहर के जनता ल पेयजल मुहैया कराए बर मिशन अमृत योजना के तहत सर्वेश्वर एनीकट के निर्माण कार्य 53 करोड़ रूपिया के लागत ले करवाए बर नगरीय प्रशासन विभाग कोति ले जल संसाधन विभाग ल डिपाजिट मद म काम सौंपे गए हे। उमन कहिन कि कथित रूप ले 41 करोड़ के निविदा ल अस्वीकृत करे अऊ 56 करोड़ के निविदा स्वीकृत करे के बात निराधार अऊ भ्रामक हे। 
उमन बताइन कि ए काम बर मिनीमाता बांगो परियोजना कोरबा के कार्यपालन अभियंता कोति ले विज्ञापन जारी करे गए रहिस, जेमां पांच निविदाकार मन ह हिस्सा लेहे रहिन। हसदेव बांगो परियोजना के मुख्य अभियंता कोति ले टेंडर खोले के कार्रवाई पूरा करे गीसस। टेंडर खोले के प्रक्रिया के समय ये तथ्य सामने आइस जऊन पांच निविदाकार मन ह ये मां हिस्सा ले रहिन, ओमां ले तीन निविदाकार मन के संलग्न अभिलेख अपूर्ण/त्रुटिपूर्ण पाए गीस। एखर फलस्वरूप नियम मन के तहत तीन निविदाकार मन के दर नइ खोले गीस। बांचे दू निविदाकार मन के आवेदन नियमानुसार समस्त अभिलेख मन के संग सही पाए गीस। एमां श्री डी. ठक्कर कन्सट्रक्शन प्राईवेट लिमिटेड अऊ मेसर्स एस.ई. डब्ल्यू इंन्फ्रास्ट्रक्चर सामिल रहिन। एमां ले श्री डी. ठक्कर कन्सट्रक्शन प्राईवेट लिमिटेड के दर सबले कम (एल-वन) होए के कारण स्वीकृति दे गीस। निविदा प्रक्रिया म जऊन तीन निविदाकार मन के दर अपूर्ण/त्रुटिपूर्ण होए के कारण नइ खोले गए रहिस, ओमां ले एक निविदाकार आर.के. ट्रांसपोर्ट अउ कन्सट्रक्शन प्राईवेट लिमिटेड कोरबा ह माननीय उच्‍च न्यायालय म रिट याचिका नंबर 1200।2017 दायर करे हे, जऊन अभी हाल म उच्‍च न्यायालय के समक्ष विचाराधीन हे। 
प्रमुख अभियंता जल संसाधन विभाग ह वो खबर मन ल भ्रामक अऊ त्रुटिपूर्ण बताइन, जेमा कहे गए हे कि 41 करोड़ रूपिया के निविदा ल अस्वीकृत करके ओखर जघा म 56 करोड़ रूपिया के निविदा मंजूर करे गए हे। उमन कहिन -ये पूरा तथ्यहीन अऊ निराधार बात आए। पूर्ववर्ती मध्यप्रदेश के समय ले ही निविदा पूर्व अर्हता के तहत निविदाकार मन के परीक्षण करे के प्रावधान लागू हे अउ जऊन निविदाकार मन के आवेदन पत्र सम्यक अभिलेख मन से समर्थित नइ होवय अऊ त्रुटिपूर्ण होही, अइसन निविदाकार मन के दर के लिफाफा नइ खोले जाय। तेकरे कारन जऊन लिफाफा खोलेच नइ गीस, ओखर दर के आधार म अनियमितता के सवालेच नइ उठय।

Post a Comment

0 Comments