राजस्थान ले छोड़ाए गीस 72 बंधक मजदूर

जांजगीर-चांपा, राजस्थान के धौलपुर जिला के तसीमो गांव म जांजगीर चांपा जिला के रहइया मन ल बंधक बनाकर रखे 72 कमईया मन ल छोड़ाए गीस। कमईया मन ल उहां बंधुवा बना के रखे गए रहिस। ये मन ल रोजे फोटक म काम कराए जावय अउ बेगारी कराए जात रहिस। कोनो विरोध करय त उमन ल डंडा म मारे जात रहिस। एक गैरसरकारी संगठन के उदीम के बाद सबो बंधुवा कमईया मन ल छोड़ाए गीस। ये सबो बंधक सक्ती ब्लाक के अलग-अलग गांव के हें।


style="display:block"
data-ad-client="ca-pub-3208634751415787"
data-ad-slot="6787779569"
data-ad-format="auto">


आप मन ल बदा देवन के जिला के 23 परिवार के 72 मनखे, जेमा छोटे लइका अऊ महिला मन घलोक रहिन ते मन ल एक झन ठेकेदार ह अपन चंगुल मे फंसा के लालच देवत राजस्थान के धौलपुर जिला के तसीमो गांव के ईंट भट्ठा म काम बर लेगे रहिस। उहां शुरु म तो सब मन ल खरचरी देहे जात रहिस फेस बाद म जब महीना पूरिस अउ उमन अपन पइसा मांगिंन त ईंट भट्ठा के मालिक मन उमन ल धमकाए लागिन अउ पइसा बिना देहे काम कराए लागिन।
कमईया मन ह बताइन के बंधुवा कमईया मन बर काम करइया संस्था नेशनल कैंपेन कमेटी फॉर इंडिकेशन आफ ब्रांडेड लेबर के कार्यकर्ता मन तक जब इंखर गोहार पहुंचिस त ये एनजीओ ह स्थानीय प्रशासन के मदद ले इमन ल बड़ मुश्किल म छोड़ाईस। बंधुवा मन ह छत्‍तीसगढ़ आके बताइन के ओ मन ल काम के बदला म सिरिफ खाना के खरचा देहे जात रहिस, तउनो पुरत नइ रहिस। उमन ल आधा पेट भूखे प्‍यासे काम करे बर परत रहिस। उमन ल काम छोड़ के अपन गांव तको जान नइ देहे जात रहिस।


style="display:block"
data-ad-client="ca-pub-3208634751415787"
data-ad-slot="6787779569"
data-ad-format="auto">

Post a Comment

0 Comments