महात्मा गांधी राष्ट्रपिता नहीं : जगतगुरु शंकराचार्य स्वरूपानंद सरस्वती

महात्मा गांधी राष्ट्रपिता नहीं राष्ट्रपुत्र


राजिम कुंभ के संत समागम म जगतगुरु शंकराचार्य स्वरूपानंद सरस्वती जी ह दे राजिम कुंभ ल मान्यता


रायपुर, 07.02.2018। मंत्री के मीडिया प्रभारी देवेंद्र गुप्ता ले मिले समाचार के मुताबिक आज जगतगुरु शंकराचार्य स्वरूपानंद सरस्वती जी के उपस्थिति म राजिम कुंभ कल्प म संत समागम के भव्य अऊ दिव्य शुभारंभ होइस। ए अवसर म मुख्य मंच ले अपन अमृतवाणी के वर्षा करत उपस्थित मनखे मन ल आशीर्वचन दीन। उमन कहिन कि राजिम कुंभ म सनातन धर्म अऊ संस्कृति के रक्षा बर काम होवत हे। धर्म के होवत हानी रोके बर एखर ले पुनीत काम कोनो दूसर नइ हो सकय। उमन साफ तौर म कहिन कि हम 4 पीठ मन के शंकराचार्य मन ल भगवान शंकराचार्य के स्वरूप के मान्यता सनातन धर्म मे मिले हे। कहूं मोला ए रूप म समाज स्वीकार करे हे त एखर नाते मैं घलोक ए आयोजन ल कुंभ के रूप म प्रमाणित करे हंव। संगेच उमन कहिन कि देश के आन राज्य मन के सरकार मन घलोक अइसनहे आयोजन करंय ताकि भारतीय संस्कृति अऊ परंपरा मन ल सुरक्षित रखे जा सकय। आज संत समागम के खास बात ये घलोक रहिस कि आज कुंभ म पधारे संत महात्मा मन के अभिनंदन, विश्व शांति अऊ छत्तीसगढ़ के समृद्धि बर साढ़े तीन लाख 61 हज़ार दीया बारे गए रहिस। ये विश्व कीर्तिमान रहिस। शंकराचार्य जी के आघू गोल्डन बुक ऑफ रिकार्ड के एशिया हेड डॉ मनीष बिश्नोई ले एकर प्रमाणपत्र मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह, धर्मस्व मंत्री बृजमोहन अग्रवाल अऊ धर्मस्व, जल संसाधन सचिव सोनमणि वोरा ह ग्रहण करिन। एखर ले पहिली 2 लाख दिया बारे के कीर्तिमान सिंहस्थ कुंभ उज्जैन म रचे गए रहिस।




ए अवसर म मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह अउ धर्मस्व मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ह उंखर आशीर्वाद लेके समृद्ध छत्तीसगढ़ के प्रार्थना करिन। ए अवसर म उच्‍च शिक्षा मंत्री प्रेमप्रकाश पाण्‍डेय, पंचायत मंत्री अजय चंद्राकर, महिला बाल विकास मंत्री रमशीला साहू, गुंडरदेही विधायक आर.के.राय, जगदलपुर विधायक विधायक संतोष बाफना, गरियाबंद विधायक गोवर्धन मांझी, संतोष उपाध्याय, संसदीय सचिव तोखन साहू, महासमुंद विधायक विमल चोपड़ा, पंडरिया विधायक मोतीराम चंद्रवंशी, केराबाई मनहर, डोंगरगढ़ विधायक सरोजनी बंजारे, श्रवण मरकाम, विद्यारतन भसीन, नवीन मारकंडे, श्यामबिहारी जायसवाल, बिरगांव महापौर अम्बिका यदु, केदारनाथ गुप्ता, रायपुर जिला पंचायत अध्यक्ष शारदा वर्मा, गरियाबंद जिला पंचायत अध्यक्ष स्वेता शर्मा, रघुनंदन साहू ह घलोक जगतगुरु शंकराचार्य स्वरूपानंद सरस्वती जी के चरणवंदन कर आशीर्वाद लीन।
उद्घाटन समारोह म बतौर मुख्य अतिथि अपन संबोधन म मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह ह कहिन कि संत मन के कृपा छत्तीसगढ़ म बने हो गए हे ते खातिर ये नौनिहाल छत्तीसगढ़ विकास के रद्दा म तेजी के संग बाढ़त हे। उमन संत मन ले आग्रह करत कहिन कि आप मन संत महात्मा मन के आशीर्वाद अइसने बने रहय। उमन कहिन कि हमर सरकार धर्मानुरूप आचरण करथे। बिना भेदभाव के सबके संग सबका विकास ध्येय ल लेके काम करत हे। धर्मस्व मंत्री बृजमोहन ह कहिन कि राजिम कुंभ ले सनातन धर्म के संदेश देश-दुनिया म पहुंचत हे। उपस्थित संत-महात्मा मन हमला आशीर्वाद प्रदान करव के हम अपन धर्म-संस्कृति के जइसे अऊ बेहतर काम कर सकन।


style="display:block"
data-ad-client="ca-pub-3208634751415787"
data-ad-slot="6787779569"
data-ad-format="auto">


महात्मा गांधी राष्ट्रपिता नहीं राष्ट्रपुत्र
जगतगुरु शंकराचार्य स्वरूपानंद सरस्वती जी ह कहिन कि का महात्मा गांधी के पहिली भारत देश नइ रहिस? कहूं रहिस त ओ मन ल पिता काबर कहे जाथे। अइसन कहना अनुचित हे, ओ मन ल राष्ट्रपुत्र कहे जाए त बने होही।
आज के पीढ़ी ल पढ़ावव रमायण-महाभारत
शंकराचार्य जी ह कहिन कि आज महिला मन के प्रति अपराध बढ़त जात हे। कठोर ले कठोर बने कानून ले घलव कोनो फरक नइ परत हे। समाज अऊ जादा दूषित होवत हे। अइसन म आज के पीढ़ी ल धर्म के शिक्षा प्रदान करे जाना चाही, ओ मन ल रमायण अऊ महाभारत पढ़ाये जाए ताकि उमन जान सकयं के नारी शक्ति के अपमान या बुरा कर्म करे ले पूरा कुल के विनाश कइसे होथे।

Post a Comment

0 Comments