2500 रूपए धान का समर्थन मूल्य : कृषक नारायण के लिए मुश्किल वक्त का बनी सहारा

बच्चों की पढ़ाई-लिखाई एवं इलाज में किया बचत पैसे का उपयोग

रायपुर, राज्य शासन के 2500 रूपए समर्थन मूल्य पर धान खरीदी के निर्णय ने राजनांदगांव जिले के राजनांदगांव विकासखंड के ग्राम धामनसरा निवासी कृषक नारायण वैष्णव के लिए मुश्किल वक्त में बहुत बड़ा सहारा साबित हुई है।
राज्य सरकार द्वारा अपने पहले ही केबिनेट की बैठक द्वारा लिए गए निर्णय के फलस्वरूप किसान नारायण के खाते में धान खरीदी की बढ़ी हुई जमा राशि ने बुरे समय में संकट मोचक की भूमिका निभाया। उन्होंने कहा कि ऐसे कठिन समय में जब उसे बच्चों की पढ़ाई-लिखाई एवं इलाज हेतु पैसों की सख्त जरूरत थी। उन्हें अपनी दैनिक आवश्यकताओं के साथ-साथ इन कार्यों के लिए पैसों का प्रबंध करना बड़ा कठिन कार्य था। ऐसे समय में समर्थन मूल्य पर धान खरीदी की राशि उसके खाते में जमा होने से उनके जैसे अनेक किसानों को राहत मिली है। जिसके फलस्वरूप राज्य सरकार  के प्रति किसानों के आशा एवं विश्वास में और अधिक प्रागढ़ता आई है।
किसान श्री नारायण ने बताया कि वे केवल ढाई एकड़ जमीन वाले छोटे किसान है। इसी जमीन में मेहनत कर वे अपने एवं अपने परिवार का भरण-पोषण करते हैं। उनके परिवार में उनकी धर्मपत्नी कमल बाई वैष्णव के अलावा उनकी पुत्री रितु कुमारी एवं पुत्र यशवत सहित कुल 4 सदस्य है। जिसमें पुत्री रितु कुमारी की शादी हो गई है। पुत्र यशवंत अभी बीएससी अंतिम वर्ष की पढ़ाई कर रहा है। उन्होंने बताया कि उनके जीवकोपार्जन का माध्यम कृषि ही है।
किसान नारायण ने बताया कि फरवरी से अप्रैल 2019 के बीच के एवं उनकी धर्मपत्नी छोटे-मोटे शारीरिक परेशानी एवं बीमारियों से भी पीड़ित थे। उस वक्त उनके लिए बीमारियों के इलाज के अलावा अपने पुत्र यशवंत की पढ़ाई हेतु पैसों की प्रबंध करना बड़ा कठिन कार्य था। लेकिन राज्य सरकार के निर्णयनुसार मार्च माह में 2500 समर्थन मूल्य पर खरीदे गये धान की अंतर की राशि उनके खाते में जमा हो जाने से उनके नैराश्य मन में एक आशा की किरण जगने के साथ ही मुश्किल समय में सहारा साबित हुआ। मुश्किल समय में उसके खाते में धान खरीदी की बढ़ी़ हुई राशि जमा हो जाने से इस राशि का उपयोग अपने पुत्र यशवंत के पढ़ाई-लिखाई के अलावा बीमारियों के ईलाज के लिए भी किया।
किसान श्री नारायण बताते है कि इस वर्ष वे समर्थन मूल्य पर कुल साढ़े 17 क्विंटल धान की बिक्री की है। उसका समर्थन मूल्य के रूप में उसे कुल 43 हजार 750 रूपए की राशि प्राप्त हुई। उन्होंने बताया कि समर्थन मूल्य पर धान खरीदी की राशि का उपयोग वे अपने पुत्र यशवंत की अगली कक्षा की पढ़ाई-लिखाई के अलावा अपने अन्य पारिवारिक आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए भी करेंगे। उन्होंने छत्तीसगढ़ सरकार की इस जनहितैषी निर्णय की प्रशंसा करते हुए कहा कि राज्य सरकार ने इस योजना के माध्यम से राज्य के मेहनतकश अन्नदाताओं के मेहनत का वास्तविक सम्मान करते हुए अपना फर्ज अदा किया है।

Post a Comment

0 Comments