जब मुख्यमंत्री ने स्वयं पकड़ा कौशिल्या के लिए माईक...

रायपुर, 04 जून 2019/ मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल की आज केराझरिया में आयोजित चौपाल में चौंकाने वाला वाक्या हुआ प्रदेश के माटीपुत्र मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने आज बड़ी सहजता से एक ग्रामीण महिला श्रीमती कौशिल्या डिक्सेना के लिए स्वयं माईक पकड़ा और श्रीमती डिक्सेना ने उपस्थित ग्रामीणों को जैविक खाद के उपयोग के बारे में रोचक जानकारी दी। 

     हुआ यूं कि मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल चौपाल में उपस्थित ग्रामीणजनों को खेतों में जैविक खाद के उपयोग से उत्पादन बढ़ाने के तरीके बता रहे थे, तभी अचानक पास खड़ी महिला श्रीमती कौशिल्या डिक्सेना ने भी जैविक खाद बनाने के तरीके और उससे होने वाले फायदे मुख्यमंत्री को बताना शुरू कर दिया। एकबानगी तो चोैपाल में उपस्थित सभी मंत्री और अधिकारी श्रीमती कौशिल्या को देखते रह गये, परंतु मुख्यमंत्री ने श्रीमती कौशिल्या की ओर अपना स्वयं का माईक कर दिया और जब तक कौशिल्या बोलती रही श्री बघेल अपने हाथों में माईक पकड़े रहे। श्रीमती कौशिल्या ने बड़े ही सहज और बेबाकी पूर्ण ढंग से ग्रामीणों को मवेशियों के गोबर, गौमूत्र और पेंड़ों के सूखे पत्तों जैसे कचरे से कम्पोस्ट खाद बनाने का तरीका बताया। इस पर मुख्यमंत्री ने श्रीमती कौशिल्या की तारीफ की और ग्रामीणों से कहा कि रासायनिक खादों के उपयोग से जमीन की उर्वरा शक्ति धीरे-धीरे कमजोर होती जा रही है साथ ही रसायनों के फसलों में आ जाने से उनका उपयोग करने वाले मनुष्यों में भी कई प्रकार की बिमारियां हो रही हैं। मुख्यमंत्री ने लोगों से गांव के सभी घुरवों का उन्नयन कर जैविक खाद बनाने और उसे ही खेतों में उपयोग करने की भी अपील की। मुख्यमंत्री ने इसी दौरान केराझरिया की एक अन्य महिला श्रीमती संतोषी महंत द्वारा नरवा, गरूवा, घुरवा, बाड़ी योजना पर रचित गीत भी सुना और उस गीत की ऑडियो सीडी का भी विमोचन किया।

Post a Comment

0 Comments