सौर सुजला योजना किसानों के लिए बना वरदान

अब विद्युत कनेक्शन लेने की आवश्यकता नहीं होगी और न ही बिजली बिल पटाने की जरूरत

छत्तीसगढ़ शासन की यही मंशा है कि दूर दराज विद्युत विहीन क्षेत्रों में विद्युत कनेक्शन उपलब्ध नहीं हो पा रही है ऐसे क्षेत्रों के लिए सौर सुजला योजना का लाभ किसानों को मिलें। सचमुच में सौर सुजला योजना किसानों के लिए कारगर साबित हो रहा है। विद्युत कनेक्शन के लिए किसानों को अब किसी का मुंह ताकना नहीं पड़ रहा है।
सौर सुजला योजना किसानों के लिए वरदान साबित हो रहा है। अब न तो विद्युत कनेक्शन लेने की आवश्यकता और न ही बिजली बिल पटाने की झंझट होगी। जिले के विकासखण्ड पथरिया के ग्राम लोहदा के किसानों ने इसका लाभ लेकर अपने धान, गेहूं, बटुरा, धनिया की फसल लेने लगे है।
 ग्राम लोहदा के श्रीमती दुकाला बाई और उनके बेटे करन ने बताया कि पिछले साल नलकूप खुदवाया था लेकिन सबमर्सिबल पम्प स्थापित नहीं करा पाये थे। इसी बीच प्रदेश सरकार द्वारा क्रेडा विभाग के माध्यम से संचालित सौर सुजला योजना की जानकारी मिली और 4800 रूपये का डिमाण्ड ड्राफ्ट जमा करने के पश्चात क्रेडा मुंगेली के अधिकृत एजेंसी द्वारा 5 एचपी का सोलर पम्प सिस्टम स्थापित किया गया, जिससे खेतों में सिंचाई हो रही है। उन्होने बताया कि उनके पास डेढ़ एकड़ का प्लाट है परिवार में 11 सदस्य है। खरीफ मौसम में धान का फसल लेंगे। अभी गर्मी में चना और धान का फसल लिया हैं। ग्राम लोहदा के ही संतु साहू ने बताया कि 6-7 साल पहले नलकूप खुदवाया था अस्थायी रूप से विद्युत कनेक्शन लेकर खेतों में सिंचाई कर रहे थे लेकिन विद्युत कटौती, बिजली बिल पटाने, लो-वोल्टेज की समस्या होती थी जिससे सिंचाई कार्य और फसल उत्पादन प्रभावित होता था अब सौर सुजला योजना से सोलर पम्प की लग जाने से सभी समस्याएं दूर हो गई है।

    ग्राम लोहदा के संतू साहू ने बताया कि उनके पास 03 एकड़ जमीन है खेत में मकान भी बना लिया है। उन्हांेने यह भी बताया कि पास में उनका भाई संतोष का भी जमीन है। सौर सुजला योजना से स्थापित सोलर पम्प से अपने खेतों में सिंचाई कर रहा है।

Post a Comment

0 Comments