नागों के बारे में हैरान कर देने वाली मान्यतायें

भारत के कुछ राज्यों जैसे बिहार, बंगाल, राजस्थान में नागपंचमी का त्योहार मनाया जाता है। नागपंचमी और नागों से जुडी कई मान्यताएं हैं जिसके कारण यह त्योहार मनाया जाता है और इसमें कई अनोखी परंपराएं निभाई जाती हैं। तो आइये जानें नाग और नागपंचमी से जुड़ी ऐसी ही कुछ अनोखी परंपराओं के बारे में।

ऐसी मान्यता है कि नागपंचमी के दिन घर के मुख्यद्वार पर गाय के गोबर से नाग बनाकर उनकी पूजा करने से घर में सांप का भय दूर होता है। भविष्य पुराण में भी इस बात का उल्लेख किया गया है। बिहार और बंगाल के कई क्षेत्रों में नागपंचमी के मौके पर नीम के पत्ते और नींबू खाने की परंपरा है। इसके पीछे मान्यता है कि ऐसा करने से नाग के काटने का डर नहीं रहता है क्योंकि इस दिन नीम और नींबू खाने से नाग के दांत खट्टे और मुंह तीता हो जाता है। नाग पंचमी के दिन एक विशेष प्रकार की लकड़ी जिसे सर्पगंधा कहते हैं उसे बाजू में बांधा जाता है।
मान्यता है कि सर्पगंधा की जड़ी बांधने से सांप काटने का डर नहीं रहता है। नाग देवता को प्रसन्न करने के लिए नागपंचमी के मौके पर दूध की मीठी खीर और दही से खट्टी खीर बनाई जाती है। इन दोनों तरह की खीर का नाग देवता को भोग लगाया जाता है। इस दिन दही वाली खीर खाने के पीछे मान्यता है कि इससे नाग भय दूर होता है। महिलाएं इस खीर को इसलिए खाती हैं कि उनका सुहाग सलामत रहे।
नागपंचमी के मौके पर नाग के बिल के पास दूध और धन का लावा रखा जाता है। मान्यता है कि ऐसा करने से नाग कुल प्रसन्न होता है और अहित नहीं पहुंचाता है। भविष्य पुराण में बताया गया है कि अगर किसी व्यक्ति की मृत्यु सांप काटने से होती है तो वह अगले जन्म में विषहीन सांप के रूप में जन्म लेता है। नागपंचमी के दिन नागों की पूजा करने से नाग काटने का भय दूर होता है दूसरा इससे कालसर्प और सर्पयोग का अशुभ प्रभाव भी दूर होता है। पंचमी तिथि को कुश (एक प्रकार का घास) से नाग बनाकर दूध, घी, दही से इनकी पूजा करने से नाग राज वासुकी प्रसन्न होते हैं। माना जाता है कि इससे व्यक्ति पर नाग देवता की कृपा होती है। इससे देह त्याग के बाद नाग लोक में जाकर सुख भोगने  क का भी मौका मिलता है।
नागपंचमी के दिन तांबे का नाग बनाकर भगवान शिव अर्पित करने की भी परंपरा है। माना जाता है कि इससे नाग उनके परिवार का अहित नहीं करेंगे नागपंचमी के दिन अगर घर में सांप आ जाए तो उस दिन अच्छा शगुन माना जाता है। लोग सांप को मारने की बजाय उनकी पूजा करते हैं। मान्यता है कि यह संकेत है कि आपके घर धन वैभव आने वाला है। नागपंचमी पर यह भी पढ़ें .. आज नागपंचमी, महत्‍व और मान्‍यता आज नागपंचमी, छग के इन अखाड़ों में होंगे दंगल- कुश्ती आरंग के डिघारी में है नागेश्‍वर मंदिर, होती है सांप की पूजा

Post a Comment

1 Comments

  1. आज नाग पंचमी ले सम्बन्धित सुग्घर लेख पढ़े ला मिलिच।धन्यवाद गुरतुर गाथ ला।

    ReplyDelete