राज्य सरकार ने कबीरधाम जिले से 57 बैगा (अति पिछड़ी जनजाति) के युवाओं को दी दीपावली पर बड़ी सौगात : कबीरधाम जिले से 57 बैगा युवक-युवती बने शाला संगवारी Baiga Extremely Backward Tribe


  • सरकारी स्कूलों की शिक्षा व्यवस्था में सुधार के साथ-साथ बैगा युवाओं के लिए रोजगार के द्वारा भी खुले
  • वनमंत्री श्री मोहम्मद अकबर ने चयनित बैगा युवक-युवतियों को शाला संगवारी प्रमाण पत्र वितरण किया
  • चयनित बैगा युवक-युवतियों ने छत्तीसगढ़ सरकार के प्रति आभार व्यक्त किया

Kabirdham Chhattisgarh

छत्तीसगढ़ सरकार ने प्रदेश के कबीरधाम जिले में निवासरत बैगा समाज (अति पिछड़ी जनजाति) के शिक्षित युवक-युवतियों को दीपावली पर्व पर बड़ी सौगात देते हुए उनके लिए रोजगार का द्वार खोल दिया है। छत्तीसगढ़ सरकार की नई नीति से कबीरधाम जिले के 57 बैगा युवक-युवितयों को रोजगार देते हुए शाला संगवारी के पद पर चयनित करते हुए सरकारी स्कूलों में पढ़ाने की अनुमति दी है, इससे युवक-युवतियों को स्थानीय स्तर पर रोजगार मिल गया है। प्रदेश के वन, परिवहन, आवास एवं पर्यावरण मंत्री तथा कवर्धा विधायक श्री मोहम्मद अकबर ने आज जिला पंचायत में 57 शाला संगवारी के रूप में चयनित बैगा युवक-युवतियों को “शाला संगवारी“ प्रमाण पत्र प्रदान किया। चयनित शाला संगवरी में 50 प्राथमिक स्कूल के लिए और सात पूर्व माध्यमिक विद्यालय स्कूल के लिए शामिल है। इस अवसर पर पंडरिया विधायक श्रीमती ममता चंद्राकर, कलेक्टर श्री अवनीश कुमार शरण, जिला पंचायत के सीईओ श्री कुंदन कुमार, श्री रामकृष्ण साहू,श्री कन्हैया अग्रवाल, श्री ऋषि शर्मा, श्री प्रमोद लूनिया श्री कलीम खान एवं चयनित बैगा परिवार के पालकगण भी उपस्थित थे।
   
उल्लेखनीय है कि प्रदेश में कबीरधाम पहला जिला बन गया है, जहां छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा जिला खनिज संस्थान न्यास नियम 2015 में संशोधन करने के बाद नई नीति के तहत स्थानीय युवाओं को रोजगार मुहैया कराई जा रही है। जिला खनिज संसाधन न्यास के तहत ही कबीरधाम जिले में प्रदेश में पहली बार ग्रामीण स्वास्थ्य सुविधाओं का विस्तार करते हुए 80 एएनएम की पदस्थापना की गई है। इसके अलावा जिला अस्पताल में चार अलग-अलग विशेषज्ञ चिकित्सकों की भर्ती की गई है। कबीरधाम जिले में आर्थिक रूप से कमजोर प्रतिभाशाली युवक-युवतियों के लिए राष्ट्रीय स्तर पर आयोजित होने वाले जेईई और नीट प्रतियोगिता की तैयारी के लिए आवासीय कोचिंग संचालित की जा रही है। वन मंत्री तथा कवर्धा विधायक श्री मोहम्मद अकबर और जिले के प्रभारी मंत्री श्रीमती अनिला भेड़िया की अध्यक्षता में आयोजित जिला खनिज न्यास संस्थान की बैठक में कबीरधाम जिले के सरकारी स्कूलों में शिक्षा की गुणवत्ता बनाने और स्थानीय स्तर पर वनांचल में निवासरत अति पिछड़ी जनजाति में शिक्षित युवक-युवतियों को रोजगार उपलब्ध करने का फैसला किया गया था। इसके अलावा जिले के वनांचल क्षेत्र में संचालित स्वास्थ्य केन्द्र में एएनएम की भर्ती और जिला चिकित्सालय में चार अलग-अलग विशेषज्ञ चिकित्सकों की भर्ती का निर्णय किया गया था। कबीरधाम जिला प्रशासन द्वारा राज्य सरकार की डीएमएफ की संशोधित नए फैसले के तहत सभी निर्णय को मूर्त रूप दिया गया है।
   
छत्तीसगढ़ में नई सरकार बनने के बाद मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल की अध्यक्षता में आयोजित मंत्रीमंडल की बैठक में छत्तीसगढ़ खनिज संस्थान न्यास नियम 2015 में संशोधन की मंजूरी दी गई है। नए संशोधन के बाद अब डीएमएफ की राशि से शासकीय अस्पतालों में स्वास्थ्य सुविधाओं के उन्नयन और उन्हें प्रभावी बनाने के लिए संसाधनों की उपलब्धता बनाने स्कूलों के शिक्षकों की कमी दूर करने तथा खनन और संबंध गतिविधियों में प्रत्यक्ष अथवा अप्रत्यक्ष प्रभावित इलाकों के परिवार के सदस्यों को नर्सिग, चिकित्सा शिक्षा, इंजीनियरिंग, निधि प्रबंधन, उच्च शिक्षा, व्यवसायिक, तकनीकी शिक्षा, शासकीय संस्थाओं, महाविद्यालयों एवं विश्वविद्यालयों में शैक्षणिक शुल्क और छात्रावास शुल्क में भुगतान के साथ ही सभी प्रकार की प्रतियोगी परीक्षाओं की कोचिंग और आवासीय प्रशिक्षण की समूचित व्यवस्था करने का फैसला लिया गया है। जिले में राज्य सरकार की इस फैसले का सफल क्रियान्वयन किया जा रहा है।
चयनित शाला संगवारी
शासकीय प्राथमिक शाला राजाढार में सुनउ सिंह को, मादीभाठा में पलटू सिंह, को, सजनखार में पंचवती मरावी, बड़ौदाखुर्द में जगनी बैगा, छपरापारा में सीमा, रमपुरा में संतोषी मेरावी, कुण्डापानी में ममता, सुखझर में श्रीमती गंगोत्री, खुजुर सिंह को बनगौरा, गुडली में सुखदेवी, सेजहडीह में बुधराम धुर्वे, जामपानी में हिरदु सिंह बैगा, कुल्हीडोरी में रामसिंह बैगा, माचापानी में धरम सिंह, पडरीपानी में रामाधीन, आगरपानी में मनबोधी, खम्हरिया में जनिया बैगा, मुकाम में शत्रुहन, काशीपानी में करन सिंह, बदनाचुवा में दुकलू राम, भड़गा में श्रीमती पन्टोरिन मेरावी, शंभुपीपर में रामप्रसाद, बाहपानी में जयसिंह बैगा, आमापानी में सम्मल सिंह, छिन्दीडीह में सोनराज, तेलियापानी धोबे में चौनसिंह, आश्रम पंडरीपानी में तिहारी, चकमकटोला में अमरित लाल, केसदा में राजेश कुमार बैगा, मुडवाही में ईश्वर सिंह, सरेण्डा में तेजेश्वरी, बांसाटोला में श्रीमती बिरसो बाई, कारीमाटी में रामकुमार, ठेगाटोला में मान बैगा, आश्रम चेन्दरादादर में रतन सिंह धुर्वे, खिचराही में दिनेश, बोदलपानी में जगमोहन धुर्वे, जोकपानी में गायत्री पिंडुलिया, बोदई में सुखबती, कबरीपथरा में राजकुमार और शासकीय प्राथमिक शाला सरहापथरा में संतोष कुमार को शाला संगवारी के लिए नियत मानेदय पर रखा गया है। इसी प्रकार शासकीय पूर्व माध्यमिक शाला झलला में संजु कुमार, बोदा 47 में टेकवंतीन धुर्वे, छुही में दिलीप कुमार, सेंन्दूरखार में सरोज, लरबक्की में केशव प्रसाद और शासकीय पूर्व माध्यमिक शाला शंभुपीपर में सोना बाई को शाला संगवारी के लिए नियत मानेदय पर रखा गया है।

Post a Comment

0 Comments