वॉट्सऐप से कई भारतीय पत्रकारों की हुई जासूसी, यूएस में खुली पोल

नई दिल्ली, एजेंसी। फेसबुक के स्वामित्व वाले सोशल मीडिया प्लैटफॉर्म वॉट्सऐप ने चौंकाने वाला खुलासा किया है कि लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान भारत के कई पत्रकार व मानवाधिकार एक्टिविस्ट पर नजर रखी गई। इसके लिए इजरायली स्पाईवेयर पेगासस का इस्तेमाल किया गया।
यह खुलासा सैन फ्रांसिस्को में एक अमेरिकी संघीय अदालत में हुआ, जहां मंगलवार को एक मुकदमे की सुनवाई चल रही थी। इसमें वॉट्सऐप ने आरोप लगाया कि इजरायली एनएसओ समूह ने पेगासस स्पाईवेयर का इस्तेमाल करके करीब 1,400 वॉट्सऐप यूजर्स पर नजर रखी थी।
वॉट्सऐप ने भारत में सर्विलांस पर रखे लोगों की पहचान और ‘सटीक संख्या’ का खुलासा करने से इनकार किया है। सोशल मीडिया प्लैटफॉर्म के अमेरिकी-बेस्ड डायरेक्टर कार्ल वूग ने द इंडियन एक्सप्रेस को बताया कि वॉट्सऐप उन लोगों के बारे में जानता था, जिनमें से हर एक से संपर्क किया गया। वूग ने बताया, भारतीय पत्रकारों और मानवाधिकार एक्टिव्टि को सर्विलांस पर रखा गया था, लेकिन मैं पहचान व संख्या की जानकारी का खुलासा नहीं कर सकता। मैं यह कह सकता हूं कि यह संख्या बहुत कम नहीं थी।’

वॉट्सऐप का दावा
एनएसओ ग्रुप, क्यू साइबर टेक्नोलॉजीज के खिलाफ मुकदमे में वॉट्सऐप ने आरोप लगाया कि इन कंपनियों ने यूएस और कैलिफोर्निया के कानून के साथ-साथ वॉट्सऐप की शर्तों का भी उल्लंघन किया है। सिर्फ मिस्ड कॉल्स के माध्यम से स्मार्टफोन को सर्विलांस पर लगाया गया। वॉट्सऐप के मुताबिक, हमारा मानना है कि इस घटना में कम से कम 100 लोगों को निशाना बनाया, जो दुर्व्यवहार का अचूक तरीका है। अगर और पीड़ित सामने आए तो यह संख्या बढ़ सकती है।

इन लोगों पर रखी नजर
जांच में सामने आया है कि देश के करीब 20-25 शिक्षाविदों, वकीलों, दलित एक्टिविस्टों और पत्रकारों से वॉट्सऐप ने संपर्क किया। साथ ही, यह जानकारी दी कि मई 2019 में 2 सप्ताह तक उनके फोन अत्याधुनिक सर्विलांस में थे।

एनएसओ ने खारिज किए आरोप
एनएसओ ग्रुप ने आरोपों को खारिज किया है। उनका कहना है कि हमारी तकनीक मानवाधिकार कार्यकर्ताओं व पत्रकारों के खिलाफ इस्तेमाल करने के लिए तैयार नहीं की गई है। एनएसओ का दावा है कि पेगासस सिर्फ सरकारी एजेंसियों को बेचा गया। कंपनी का कहना है कि हम अपने प्रॉडक्ट का लाइसेंस सिर्फ वैध सरकारी एजेंसियों को ही देते हैं।

Post a Comment

0 Comments