भारतीय विज्ञान शिक्षा और शोध संस्‍थान के शोधार्थियों ने पीएम मोदी को दिया प्रेजेंटेशन

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भारतीय विज्ञान शिक्षा और शोध संस्‍थान के वैज्ञानिकों और शोधार्थियों के साथ पुणे में शनिवार को मुलाकात की। पीएम मोदी ने पुणे स्थित सुपर कंप्यूटर के उस केंद्र का दौरा किया जहां 'परम बह्म' है जिसकी क्षमता 797 टेराफ्लॉप्स है।

IISER के शोधार्थियों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सामने स्वच्छ ऊर्जा से लेकर आणविक जीव विज्ञान और अत्याधुनिक तकनीक पर आधारित विभिन्न महत्वपूर्ण मुद्दों पर शोध प्रस्तुति भी दी। इस दौरान जिन विषयों पर चर्चा की गई उनमें 

- स्वच्छ ऊर्जा के लिए नई सामग्री और उपकरण
- ग्लोबल वार्मिंग को कम करने के लिए कार्बन डाइऑक्साइड में कमी लाना
- हरित पर्यावरण के लिए स्वच्छ ऊर्जा
- सस्ती स्वच्छ ऊर्जा: ग्राफीन सुपरकैपेसिटर
- प्राकृतिक संसाधन मानचित्रण और हिमालयी जलवायु  अध्ययन
- गणितीय वित्त अनुसंधान और बाजार का अनुमान
- कुपोषण का प्रभाव: गैर-संचारी रोगों का अध्ययन
- कृषि जैव प्रौद्योगिकी: आलू की पैदावार में सुधार के लिए आण्विक अध्ययन
- भ्रूण के स्वास्थ्य और विकास पर शोध
- रोगाणुरोधी प्रतिरोध क्षमता को परखने की रणनीति और
- LIGO-INDIA: देश में इच्छुक युवाओं को भारतीय जमीन पर विज्ञान और प्रौद्योगिकी सुविधाएं 

प्रधानमंत्री मोदी ने वैज्ञानिकों को उनकी शानदार ज्ञानवर्धक प्रस्तुती के लिए  सराहना की। उन्होंने वैज्ञानिकों और छात्रों से कम लागत वाली तकनीकों को विकसित करने का भीआह्वान किया जो देश की विशिष्ट जरूरतों को पूरा कर सकें और भारत की विकास गति को तेज करने में मदद करें।



Post a comment