प्रियंका गांधी और योगी आदित्यनाथ में भगवा पर वार-पलटवार

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी में भगवा को लेकर ठन गई है. यूपी में नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ प्रदर्शन के दौरान योगी की पुलिस जिस तरीके से प्रदर्शनकारियों से निपटी उसे लेकर विपक्ष उस पर हमलावर है. पुलिस पर लोगों को प्रताड़ित करने के आरोप लग रहे हैं. पुलिस के बर्बरपूर्ण रवैये पर सियासी दल ही नहीं सामाजिक संगठन भी सवाल उठा रहे हैं. पुलिस की कार्रवाई पर प्रियंका गांधी ने योगी आदित्यनाथ को घेरा और उनके भगवे चोले पर सवाल खड़ा किया तो योगी ने पलटवार किया. प्रियंका गांधी ने योगी आदित्यनाथ पर निशाना साधा. कांग्रेस नेता ने कहा कि योगी आदित्यनाथ ने भगवा धारण किया है लेकिन उन्हें समझना चाहिए की यह भगवा उनका नहीं है. भगवा करुणा का प्रतीक है. कांग्रेस नेता ने कहा कि मुख्यमंत्री ने गलत बयान दिया, उन्होंने आम जनता से बदला लेने की बात कही जिसका असर दिख रहा है. हिंदूस्तान कृष्ण राम का देश है इस देश में यह सब हो रहा है, कृष्ण ने अर्जुन से बदले की बात युद्ध के समय भी नहीं कही थी. हिंदू धर्म में बदले की कोई जगह नहीं हैं. प्रियंका गांधी ने योगी सरकार पर हमला करते हुए कहा कि देश में हिंसा और बदले की कार्रवाई के लिए कोई जगह नहीं है.

प्रियंका ने लखनऊ पुलिस पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा था कि नए नागरिकता कानून के खिलाफ हाल में हुई हिंसा के मामले में गिरफ्तार किए गए पूर्व पुलिस अधिकारी के घर जाते वक्त उन्हें रोकने की कोशिश कर रही पुलिस ने उनका गला दबाकर उन्हें गिराया. प्रियंका ने कहा कि वह नए नागरिकता कानून के खिलाफ हुए हिंसक प्रदर्शन के मामले में गिरफ्तार किए गए सेवानिवृत्त आईपीएस अफसर एसआर दारापुरी के परिजनों से मुलाकात के लिए पार्टी के राज्य मुख्यालय से निकली थीं. रास्ते में लोहिया चौराहे पर पुलिस ने उन्हें रोक लिया. उन्होंने आरोप लगाया कि मैं गाड़ी से उतरकर पैदल चलने लगी. मुझे घेरा गया और एक महिला पुलिसकर्मी ने मेरा गला दबाया. मुझे धक्का दिया गया और मैं गिर गई. आगे चलकर फिर मुझे पकड़ा तो मैं एक कार्यकर्ता के टू-व्हीलर से निकली. उसे भी गिरा दिया गया.

प्रियंका के इस भगवा वाले बयान के बाद सियासत तेज हो गई है. प्रियंका ने लखनऊ में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर निशाना साधा और कहा कि चूकि उन्होंने बदला लेने की बात की थी, इसलिए पुलिस बेकसूर लोगों से बदला ले रही है. प्रियंका ने कहा कि योगी भगवा नहीं बल्कि उसके धर्म को धारण करें, जो करुणा सिखाता है. प्रियंका के इस बयान पर इसके बाद मुख्यमंत्री की तरफ से भी जवाब आया. मुख्यमंत्री ऑफिस के ट्विटर हैंडल से ट्वीट किया गया कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सबकुछ त्याग कर भगवा लोक सेवा के लिए धारण किया है. वे न केवल भगवा धारण करते हैं, बल्कि उसका प्रतिनिधित्व भी करते हैं. भगवा वेशभूषा लोक कल्याण और राष्ट्र निर्माण के लिए है और योगी जी उस पथ के पथिक हैं. अगले ट्वीट में लिखा गया कि संन्यासी की लोक सेवा और जन कल्याण के निरंतर जारी यज्ञ में जो भी बाधा उत्पन्न करेगा उसे दंडित होना ही पड़ेगा. विरासत में राजनीति पाने वाले और देश को भुलाकर तुष्टिकरण की राजनीति करने वाले लोक सेवा का अर्थ क्या समझेंगे. इससे पहले यूपी के उप मुख्यमंत्री दिनेश शर्मा ने मोर्चा संभाला.

दिनेश शर्मा ने प्रियंका गांधी पर पलटवार करते हुए सारा मामाला वोटबैंक का बताया. उपमुख्यमंत्री ने कहा कि कांग्रेस की परंपरा रही है कि नियमों को न मानना. उन्होंने कहा कि मीडिया में कैसे बने रहे इसके लिए कांग्रेस पार्टी हमेशा ही नियमों को ताक पर रखा है. उन्होंने कहा कि कांग्रेस देश का विकास नहीं देख सकती. विकास की बात करते थे तो सपेरों का देश बताते थे. कांग्रेस को यह नहीं पता कि भगवा क्या है. उन्होंने कहा कि कांग्रेस का रवैया गलत हैं. हालांकि योगी के बदला लेने वाले बयान पर सभ्य समाज में भी कड़ी प्रतिक्रिया हुई है. उनके इस बयान को अराजक बताया जा रहा है. (राजनीतिक-सामाजिक मुद्दों पर सटीक विश्लेशण के लिए पढ़ें और फॉलो करें).



Post a Comment