रिटायर हो रहे लड़ाकू विमानों की कमी पूरी करने के लिए 200 फाइटर जेट खरीदेगी सरकार

कोलकाता 
एयरफोर्स में कम होते लड़ाकू विमानों को देखते हुए सरकार 200 फाइटर जेट्स खरीदने वाली है। रक्षा सचिव अजय कुमार ने रविवार को कहा कि एयरफोर्स में लगातार कम होते फाइटर जेट्स की समस्या से निपटने के लिए यह कदम उठाया गया है। उन्होंने कहा कि हिंदुस्तान ऐरोनॉटिकल्स लिमिटेड की ओर से तैयार किए जा रहे 83 तेजस लड़ाकू विमानों का कॉन्ट्रैक्ट आखिरी राउंड में है। रक्षा सचिव अजय कुमार ने कहा कि इन 83 लड़ाकू विमानों के अलावा 110 अन्य के लिए प्रस्ताव मांगे गए हैं। उन्होंने कहा कि इस तरह से कुल 200 लड़ाकू विमानों की खरीद के लिए प्रक्रिया चल रही है। रक्षा सचिव ने कहा कि हम 83 तेजस लड़ाकू विमानों के कॉन्ट्रैक्ट को जल्द ही फाइनल कर देंगे। इससे भारत को अपनी हवाई सुरक्षा के लिए तत्काल जरूरी लड़ाकू विमान मिल सकेंगे।

एयरफोर्स के बेड़े में अभी मिराज, सुखोई और मिग-29 
तेजस फाइटर जेट्स को एयरफोर्स में शामिल किए जाने की समयसीमा पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि हम इस प्रक्रिया को जल्द से जल्द पूरा करना चाहते हैं। इसके साथ ही उन्होंने आउटसोर्सिंग की भी बात कही। बता दें कि मौजूदा वक्त में एयरफोर्स के बेड़े में मिराज 2000, सुखोई 30 MKI और मिग-29 जैसे लड़ाकू विमान हैं। इसके अलावा जगुआर और मिग 21 बाइसन भी हैं, जो काफी पुराने हो गए हैं। 

मिग-27 ने भरी आखिरी उड़ान, करगिल में दिया था योगदान 
गौरतलब है कि हाल ही में जोधपुर एयरबेस पर करीब 4 दशकों तक सेवा देने के बाद मिग-27 फाइटर जेट्स ने आखिरी उड़ान भरी थी। इन विमानों ने करगिल युद्ध के दौरान अहम भूमिका अदा की थी और पाकिस्तान के ठिकानों पर चुन-चुनकर बम बरसाते हुए उसके खतरनाक मंसूबों को नेस्तनाबूद किया था।  



Post a Comment