राज्यपाल टंडन से मिले काउंसलेट जनरल ऑफ यूएस रैज़

भोपाल

राज्यपाल लालजी टंडन से राजभवन में यूएस काउंसलेट जनरल ‍डेविड रैज़  ने मुलाकात की। मुलाकात के दौरान मध्यप्रदेश में व्यापार और निवेश की संभावनाओं के संबंध में चर्चा हुई।

राज्यपाल टंडन ने कहा है कि मध्यप्रदेश में हर्बल औषधि के क्षेत्र में व्यापार एवं निवेश की व्यापक संभावनाएँ हैं। प्रदेश में इसके लिए आवश्यक कच्चा माल पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध है। उन्होंने कहा कि यह क्षेत्र वाणिज्यिक लाभ के साथ ही सामाजिक बदलाव में भी सहयोगी होगा। राज्यपाल ने कहा कि प्रदेश के जनजातीय समुदाय के पास औषधीय पौधों और हस्तशिल्प की अद्भुत विरासत है। सरकार द्वारा उनके संरक्षण और संवर्धन के प्रयास किये जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश में उच्च शिक्षा के क्षेत्र में विस्तार और गुणवत्ता के प्रयास निरंतर जारी हैं।

काउंसलेट रैज़ द्वारा बड़ी संख्या में अमेरिकी छात्रों द्वारा हिन्दी में अध्ययन की ललक का जिक्र किये जाने पर राज्यपाल ने बताया कि भारतीय ज्ञान परंपरा की समृद्ध विरासत का दुनिया में विशिष्ट स्थान है। इस विरासत को आगे बढ़ाने के लिए अटल बिहारी वाजपेयी हिंदी विश्वविद्यालय के माध्यम से प्रयास किए जा रहे हैं। उन्होंने बताया कि विश्व की सर्वाधिक बोली जाने वाली भाषाओं में हिंदी का विशेष स्थान है। उन्होंने बताया कि बिहार के राज्यपाल के रूप में उन्होंने भारतीय शिक्षा से ज्ञान और दर्शन  की पुनर्प्रतिष्ठा के प्रयास किये। दुनिया के प्रथम विश्वविद्यालय नालंदा के गौरव को पुनर्जीवित किया गया। उन्होंने बताया कि भारतीय अर्थ-व्यवस्था आज विश्व की अर्थ-व्यवस्था का अंग बन गई है। उसी के अनुरूप व्यापार और निवेश के क्षेत्र में व्यापक सुधार किये गये हैं। उद्योग-अनुकूल नीतियाँ, बुनियादी ढांचे का विकास और व्यवस्था, व्यापार तथा निवेश में क्रांतिकारी सुधारों के परिणाम मिलने लगे हैं। आज देश में सभी क्षेत्रों में व्यापार एवं व्यवसाय का उत्साही वातावरण है।

काउंसलेट जनरल रैज़ ने उच्च शिक्षा के क्षेत्र में प्रदेश में हो रहे कार्यों की सराहना की। उन्होंने इस क्षेत्र में प्रदेश को सहयोग उपलब्ध कराने का प्रस्ताव दिया।



Post a comment