पूर्व सेना प्रमुख विपिन रावत के बयान पर भड़का पाकिस्तान, कहा- दिवालिया सोच को दर्शाती है टिप्पणी

 
इस्लामाबाद

पूर्व सेना प्रमुख और सीडीएस जनरल बिपिन रावत के आतंकवाद फैलाने वाले देशों के खिलाफ कार्रवाई को लेकर दिए गए बयान से पाकिस्तान तिलमिला गया है। शुक्रवार को उसने रावत के बयान की निंदा करते हुए कहा कि यह टिप्पणी चरमपंथी मानसिकता और दिवालिया सोच को दर्शाती है। पाकिस्तान के विदेश विभाग ने बयान जारी करते हुए कहा कि यह मानसिकता भारत के राजकीय संस्थानों में फैल चुकी है।

गौरतलब है कि बीते दिनों पाकिस्तान पर निशाना साधते हुए जनरल बिपिन रावत ने कहा था कि आतंकवाद को बढ़ावा देने वाले देशों को कूटनीतिक रूप से अलग थलग करने की जरूरत है। दिल्ली में आयोजित रायसीना डायलॉग-2020 को संबोधित करते हुए रावत ने पाकिस्तान का स्पष्ट संदर्भ देते हुए कहा था कि आतंकवाद को बढ़ावा देने वाले देशों को आतंक निरोधक संस्था एएफटीएफ की काली सूची में डाल देना चाहिए।

जनरल रावत ने कश्मीर में हालात का जिक्र करते हुए कहा था कि घाटी में 10 और 12 साल के लड़के-लड़कियों को कट्टरपंथी बनाया जा रहा है, जो चिंता का विषय है। उन्होंने कहा, 'इन लोगों को धीरे-धीरे कट्टरपंथ से अलग किया जा सकता है। हालांकि, ऐसे लोग भी हैं जो पूरी तरह कट्टरपंथी हो चुके हैं। इन लोगों को अलग से कट्टरपंथ से मुक्ति दिलाने वाले शिविर में ले जाने की आवश्यकता है।'



Post a comment