देश जिस तरह बढ़ रहा, उससे साफ है कि सेक्युलरिज्म का नामोनिशान मिट जाएगा: सैफ

 
नई दिल्ली 

बॉलीवुड एक्टर सैफ अली खान को हाल ही में रिलीज उनकी फिल्म तानाजी में निभाए गए किरदार के लिए काफी सराहा जा रहा है. फिल्म में वे निगेटिव शेड के रोल में नजर आए थे और उनका इंपैक्ट इतना तगड़ा था कि इसकी तुलना पद्मावत फिल्म के अलाउद्दीन खिलजी के किरदार से की गई. एक्टर ने एक इंटरव्यू में फिल्म से जुड़ी बातें शेयर की है इसके अलावा उन्होंने देश में चल रहे राजनीतिक मुद्दों पर भी प्रतिक्रिया दी है.  वे पिछले काफी समय से इस सवाल को टाल रहे थे.

सैफ ने फिल्म क्रिटिक अनुपमा चोपड़ा को दिए गए इंटरव्यू में देशभर में चल रहे प्रोटेस्ट के बारे में बात करते हुए कहा कि उन्हें ये देख कर बड़ा दुख होता है कि देश के लोग गलत रवैया अपना रहे हैं. ये हमें भाईचारे के रास्ते से अलग लेकर जा रहा है. सैफ ने कहा कि जिस तरह से देश आगे बढ़ रहा है उससे ये तो साफ है कि देश से सेक्युलरिजम का नामो निशान भी मिट जाएगा. सैफ का ऐसा मानना है कि देश के लोग लाभदायक चीजों पर स्टैंड नहीं ले रहे हैं. अगर लोग किसी चीज का विरोध कर रहे हैं तो उन्हें पीटा जा रहा है जबकी अगर कोई एक्टर स्टैंड लेता है तो इसका प्रभाव उसकी फिल्म पर पड़ सकता है. इसलिए सैफ के मुताबिक A-Political रहना ज्यादा सुरक्षित विकल्प है. 

बता दें कि CAA और NRC  को लेकर देशभर में लोग दो गुटों में बंटे हुए हैं. फिल्म जगत में भी कुछ ऐसा ही देखने को मिल रहा है. अनुराग कश्यप, ऋचा चड्ढा, स्वरा भास्कर, विशाल भारद्वाज, अनुभव सिन्हा और तापसी पन्नू सरकार के विरोध में प्रदर्शन कर रहे हैं वहीं दूसरी तरफ मेनस्ट्रीम सिनेमा के सितारों ने मुद्दे पर चुप्पी साधी हुई है. इन सब से इतर फिल्म छपाक के प्रमोशन के सिलसिले में दीपिका पादुकोण जेएनयू पहुंची थीं. बहुत लोगों ने इसे पीआर ट्रिक करार दिया था.

जवानी जानेमन के प्रमोशन में बिजी

वर्क फ्रंट की बात करें तो उनकी फिल्म तानाजी बॉक्स ऑफिस पर जबरदस्त कमाई कर रही है. फिल्म को दर्शकों द्वारा काफी पसंद भी किया जा रहा है. सैफ के अलावा फिल्म में अजय देवगन और काजोल भी हैं. इसके अलावा सैफ इस समय अपने अपकमिंग प्रोजेक्ट जवानी जानेमन को लेकर चर्चा में हैं. फिल्म के फनी पोस्टर्स सोशल मीडिया पर वायरल हैं.



Post a comment