डॉ. रीता अंतर्राष्ट्रीय कॉन्फ्रेंस में बेस्ट रिसर्च तथा लीडिंग एडुकेशनिस्ट अवार्ड आॅफ इंडिया से हुई सम्मानित

रायपुर
मैट्स विश्वविद्यालय के आईटी विभाग की विभागाध्यक्ष डॉ. रीता दीवानजी को तमिलनाडु के पेराम्बलुम में आय़ोजित अंतर्राष्ट्रीय कॉन्फ्रेंस में बेस्ट रिसर्च तथा लीडिंग एडुकेशनिस्ट अवार्ड आॅफ इंडिया (भारत के सर्वश्रेष्ठ अनुसंधान और अग्रणी शिक्षाविद् पुरस्कार) से सम्मानित किया गया। यह अंतर्राष्ट्रीय कॉन्फ्रेंस कला, विज्ञान एवं प्रोद्योगिकी में बहुविषयक अनुसंधान रुझानों विषय पर आयोजित की गई थी। यह कान्फ्रेंस विश्व के प्रसिद्ध अंतर्राष्ट्रीय संस्थानों के सहयोग से आयोजित की गई थी। इनमें इंटरनेशनल अमेरिकन काउंसिल फॉर रिसर्च एंड डेवलपमेंट, संयुक्त राज्य अमेरिका, डीके इंटरनेशनल रिसर्च फाउंडेशन, इंटरनेशनल इकोनॉमिक्स यूनिवर्सिटी, मालदीव गणराज्य, कैलिफोर्निया पब्लिक यूनिवर्सिटी, उत्तरी मारियाना द्वीप समूह, संयुक्त राज्य अमेरिका, अफ्रीकी मून विश्वविद्यालय, हेंटीस बे, नामीबिया, दक्षिण पश्चिम अफ्रीका, स्वाहिली विश्वविद्यालय, पनामा, मध्य अमेरिका, बॉल्सब्रिज विश्वविद्यालय, रोजो, डोमिनिका, एलायंस इंटरनेशनल यूनिवर्सिटी, कालुंडु, लुसाका, जाम्बिया, वेस्ट कोस्ट यूनिवर्सिटी, पनामा, मध्य अमेरिका, द स्टेट यूनिवर्सिटी आॅफ न्यूयॉर्क आदि प्रमुख रूप से शामिल हैं।  दिसंबर 2019 के अंतिम सप्ताह में आयोजित इस समारोह में शहर की डॉ रीता दीवानजी को बेस्ट रिसर्च तथा लीडिंग एडुकेशनिस्ट अवार्ड आॅफ इंडिया से सम्मानित होने पर मैट्स विश्वविद्यालय परिवार ने हर्ष व्यक्त किया है।  

डॉ. रीता दीवानजी मैट्स विश्वद्यालय में विगत 15 वर्षो से शिक्षा के क्षेत्र से जुड़ी हुई हैं। उन्होंने उन्नत भारत अभियान के तहत ज्ञानसभा प्रोजेक्ट को विश्वविद्यालय के सहयोग से प्रभावी रूप से कार्यान्वित किया है। विश्वविद्यालय द्वारा आयोजित कम्युनिटी एक्सटेंशन वर्क को विस्तार देने में हमेशा क्रियाशील रहीं डॉ. रीता दीवानजी के अनुसार शिक्षा की नीव स्कूल की प्राथमिक शाला से शुरू होती है और प्राथमिक शालाओं से तकनीकी विधियों को पढ़ाये जाने की आवश्यकता है। 



Post a comment