पूरे देश में रही उत्सुकता, मुंबई में लोगों ने दुर्बीन लगाकर देखा उपछाया चंद्रग्रहण

 नई दिल्ली 
साल 2020 का पहला चंद्रग्रहण आज रात 02:42 बजे समाप्त हो गया। इस ग्रहण को लेकर पूरी दुनिया में लोगों में उत्सुकता देखी गई। इस ग्रहण को देखने के लिए शुक्रवार और शनिवार की मध्य रात्रि को मुंबई में लोगों ने दुर्बीन लगाकर देखा। बहुत से लोग यहां नेहरू नक्षत्र भवन पहुंचे और ग्रहण से गुजर रहे चांद का दीदार किया। ऐसे में बहुत से लोग हैं, जिन्हें चंद्रग्रहण से जुड़ी हुई कई बातें नहीं पता। ऐसे में चलिए, जानते हैं चंद्रग्रहण से जुड़ी हुई खास बातें- 

क्या है चंद्रग्रहण का समय और अवधि
यह चंद्र ग्रहण 10 जनवरी को रात 10:37 बजे शुरू होकर 02:42Am पर खत्म हुआ। ग्रहण की अवधि चार घंटे से ज्यादा की थी। ज्योतिष गणना के अनुसार इस ग्रहण में न तो सूतक लगा है और न ही इसका कोई नकारात्मक असर देखने को मिला।
 
कहां-कहां दिखा चंद्रग्रहण 
इस ग्रहण को एशिया, ऑस्ट्रेलिया, यूरोप, अफ्रीका में देखा गया। लेकिन नॉर्थ अमेरिका में इस ग्रहण को नहीं दिखा। इसके साथ ही अलास्का, इस्टर्न माइन और उत्तर पूर्वी कनाडा में इसे देखा गया।

क्या होता है उप-छाया ग्रहण 
चंद्रमा, पृथ्वी और सूर्य जब एक सीध पर होते हैं और पृथ्वी की छाया चंद्रमा पर पड़ती है तो चंद्र ग्रहण माना जाता है। लेकिन इस बार चंद्रमा पृथ्वी की छाया के बाहरी किनारे (पृथ्वी की उपछाया) से होकर गुजरता है। यानी चंद्रमा पूरी तरह से पृथ्वी की छाया में छिपेगा नहीं बल्कि हल्का मलिन होता है जिसकी मलिनता नंगी आंख से देख पाना मुश्किल रहता है। इस प्रकार यह ग्रहण उप-छाया चंद्र ग्रहण रहा। यहां चंद्रमा की तस्वीर में हल्की मलिनता या ग्रहण का असर देखा जा सकता है।



Post a comment