हजारों बच्चों को दी गई पोलियो ड्रॉप, छूटे बच्चों के लिए घर-घर जाएगी टीम

रायपुर
स्वास्थ्य विभाग द्वारा प्रदेश में आज पल्स पोलियो टीकाकरण अभियान चलाया गया। इस दौरान शून्य से पांच वर्ष तक के हजारों बच्चों को पोलियो की दवा पिलाई गई। टीकाकरण के लिए प्रदेशभर में 14 हजार 396 बूथ बनाए गए हैं। छूटे हुए बच्चों को कल-परसों घर-घर पहुंचकर यह टीके लगाए जाएंगे।

बताया गया कि तीन दिनी इस अभियान के लिए 28 हजार 792 टीमें गठित की गई हैं। अभियान के दौरान प्रदेश के करीब 36 लाख बच्चों को पोलियो दवा पिलाने का लक्ष्य रखा गया है। अभियान के दौरान मेलों, सामूहिक उत्सवों और प्रमुख रेलवे स्टेशनों में भी बच्चों को पोलियो ड्रॉप पिलाने की व्यवस्था रही। नवजात व पांच वर्ष तक का कोई भी बच्चा पोलियो की दवा पीने से छूट न जाए, इसके लिए टीकाकरण दलों द्वारा घर-घर भ्रमण किया जाएगा। प्रदेश के सभी मेडिकल कॉलेज अस्पतालों, जिला चिकित्सालयों, शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों और प्रसूति गृहों के मुख्य द्वार के पास भी पोलियो ड्रॉप पिलाने स्वास्थ्य विभाग की टीम तैनात रही। अभियान के लिए दो हजार 879 पर्यवेक्षक तैनात रहे।

स्वास्थ्य अफसरों का कहना है कि प्रदेश में पल्स पोलियो टीकाकरण अभियान लंबे समय से चलाया जा रहा है और यह प्रयास किया जा रहा है कि पोलियो की खुराक लेने से कोई बच्चा न छूटे। उनका कहना है कि स्वास्थ्य विभाग की टीम आंगनबाड़ी कार्यकतार्ओं, मितानिनो समेत अन्य विभाग के कर्मियों के साथ टीकाकरण में लगी है। शाम तक अधिकांश बच्चों को टीके लगा दिए जाएंगे। बचे हुए बच्चों को कल-परसों में घर-घर जाकर दवा पिलाई जाएगी। महापौर एजाज ढेबर ने रायपुर के छत्तीसगढ़ क्लब में कुछ बच्चों को पोलियो की दवा पिलाकर अभियान की शुरूआत की। इस दौरान स्वास्थ्य अफसर भी मौजूद रहे।



Post a Comment