बांग्लादेश में देवेंद्र की बेटियों की पढ़ाई के लिए ISI कर रही फंडिंग, NIA कर रही जांच

नई दिल्ली/श्रीनगर
जम्मू-कश्मीर के कुलगाम से हिजबुल मुजाहिदीन के आतंकियों के साथ गिरफ्तार किए गए बर्खास्त डीएसपी देवेंद्र सिंह पर राष्ट्रीय अन्वेषण एजेंसी (NIA) का शिकंजा तेजी से कसता जा रहा है. एनआईए ने केस दर्ज करने के बाद बर्खास्त डीएसपी देवेंद्र सिंह के पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई से कनेक्शन की जांच में जुटी है. हिजबुल मुजाहिदीन के कमांडर नवीद बाबू के अलावा जैश-ए-मोहम्मद के आतंकी गुलाम मोइनुद्दीन डार उर्फ जाहिद से कनेक्शन सामने आया है. इसके बाद से आईएसआई एजेंट के रूप में देवेंद्र सिंह के लंबे समय तक काम करने की एनआईए की आशंका दोगुनी हो गई है. सूत्रों का यह भी दावा है कि देवेंद्र सिंह की बेटियों की पढ़ाई के लिए आईएसआई फंड देता है. इसकी वजह यह है कि आमतौर पर भारतीय अपने बच्चों को उच्च शिक्षा के लिए बांग्लादेश नहीं भेजते हैं. एनआईए ने जम्मू-कश्मीर पुलिस के बर्खास्त डीएसपी देवेंद्र सिंह द्वारा साल 2005 में लिखे गए खत की जांच करने का फैसला किया है. बर्खास्त डीएसपी देवेंद्र सिंह का यह खत दिल्ली पुलिस को उन चार आतंकियों के पास से बरामद हुआ था, जिनको एक जुलाई 2005 को गुरुग्राम-दिल्ली बॉर्डर पर मुठभेड़ के बाद गिरफ्तार किया गया था. इस खत के जरिए आतंकी हाजी गुलाम मोइनुद्दीन डार उर्फ जाहिद को एक पिस्टर और एक वायरलेस सेट ले जाने का पास दिया गया था.

पिछले साल 3 दिन के लिए बांग्लादेश गया था देवेंद्र सिंह
जांच में यह भी बात सामने आई है कि साल 2019 में देवेंद्र सिंह तीन दिन के बांग्लादेश दौरे पर गया था और वहां कई दिनों तक रुका रहा. सूत्रों के मुताबिक जम्मू-कश्मीर के बर्खास्त डीएसपी देवेंद्र सिंह की दो बेटियां वर्तमान में बांग्लादेश में पढ़ाई कर रही हैं. हालांकि सुरक्षा एजेंसियों को आशंका है कि देवेंद्र सिंह के बांग्लादेश दौर की असली वजह आईएसआई कनेक्शन हो सकता है.

क्या देवेंद्र सिंह की बेटियों की पढ़ाई का खर्च उठाता है ISI?
अब एनआईए इस बात की जांच कर सकती है कि क्या देवेंद्र सिंह ने बांग्लादेश की राजधानी ढाका में आईएसआई एजेंटों से मुलाकात की थी. सूत्रों का यह भी दावा है कि देवेंद्र सिंह की बेटियों की पढ़ाई के लिए आईएसआई फंड देता है. इसकी वजह यह है कि आमतौर पर भारतीय अपने बच्चों को उच्च शिक्षा के लिए बांग्लादेश नहीं भेजते हैं.

देवेंद्र सिंह के बैंक खातों की भी जांच कर रहीं सुरक्षा एजेंसियां
सूत्रों का यह भी कहना है कि पाकिस्तान के बाद दुबई, नेपाल और बांग्लादेश आतंकियों और आईएसआई एजेंटों के लिए सुरक्षित पनाहगाह हैं. इससे बांग्लादेश में देवेंद्र सिंह के आईएसआई एजेंटों से मिलने की आशंका बढ़ गई है. जम्मू-कश्मीर पुलिस और अन्य जांच एजेंसियां देवेंद्र सिंह के बैंक अकाउंट की भी जांच कर रही हैं. देवेंद्र सिंह के घर से बरामद हुए साढ़े सात लाख रुपये के स्रोत की भी जांच की जा रही है.

20 लाख के इनामी आतंकी को 12 लाख में दे रहा था सुरक्षित पास
दिलचस्प बात यह है कि जम्मू-कश्मीर पुलिस ने जिस हिजबुल आतंकी नवीद बाबू के सिर पर 20 लाख रुपये का इनाम घोषित कर रखा था, उसको देवेंद्र सिंह ने गिरफ्तार करने की बजाय 12 लाख रुपये में सुरक्षित पास दे रहा था. एनआईए इस बात की भी जांच कर रही है कि देवेंद्र सिंह ने आतंकी नवीद को मारकर 20 लाख इनाम लेने की बजाय कम पैसे में उसको सुरक्षित पास क्यों दे रहा था?



Post a Comment