डिफेंस एक्सपो में हुए 200 से ज्यादा समझौते, आम लोगों के लिए खुले द्वार

लखनऊ में चल रहें 11वें डेफ एक्सपो में  कल 200 से ज्यादा सहमति पत्रो पर हस्ताक्षर किये गये जो भारतीय रक्षा कंपनियों के लिये नये अवसर लेकर आए है। इन समझौतों का मकसद देश में रक्षा उत्‍पादन के क्षेत्र में सहभागिता को बढ़ाने के लिए नवोन्‍मेषी सहयोग और परिवर्तन को शामिल करना है। आज बंधन कार्यक्रम में हुए 71 एमओयू, रक्षा मंत्री ने कहा, अब परिणाम देने लगी हैं रक्षा क्षेत्र में सरकार की नीतियां, 2024 तक पांच अरब डॉलर के रक्षा निर्यात के लक्ष्य को कर लेंगे हासिल।

शुक्रवार को डिफेंस एक्सपो के तीसरे दिन बंधन कार्यक्रम का आयोजन किया गया  समारोह में रक्षामंत्री राजनाथ सिंह, उत्तर प्रदेश के मुख्य मंत्री योगी आदित्यनाथ और रक्षा सचिव अजय कुमार शामिल हुए ।समारोह में  क़रीब दौ सौ से ज़्यादा सहमति पत्र पर हस्ताक्षर हुए। इसके साथ ही नए रक्षा उत्पादों को रक्षामंत्री लोगों के सामने प्रदर्शित किया । DRDO की ओर से निजी क्षेत्र की कम्पनियों को तकनीक का हस्तांतरण भी किया गया  ।

इस मौक़े पर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि डिफ़ेन्स पॉलिसी ने अब रिज़ल्ट देना शुरू कर दिया है इस मौक़े पर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा की डिफ़ेन्स एक्स्पो में हुए सहमति पत्रों से प्रदेश में पचास हज़ार करोड़का निवेश हो और युवाओं के लिए रोज़गार के अवसर मुहैया होंगे. इस मौक़े पर रक्षा सचिव अजय कुमार ने कहा की DRDO की ओर से निजी क्षेत्र की कम्पनियों को तकनीक के हस्तांतरण से निजी क्षेत्र की कंपनिया रक्षा साजों समान कर उत्पादन में मदद मिलेगी. 

एक्सपो के तीसरे दिन ऑर्डिनेंस फैक्ट्री बोर्ड के चेयरमैन हरि मोहन ने कहा कि वो निर्यात को बढावा देने की दिशा में प्रयासरत है। उन्होंने कहा कि हाल के सालों का निर्यात का प्रतिशत काफी बढा है और जल्दी ही हम 1000 करोड़ रुपए के आंकड़े को पार कर जाएंगे। 

 

 



Post a comment